☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingTheme
आधुनिक थीम चुनें
Clock

2019 मातृ दिवस | मदर्स डे

DeepakDeepak

2019 मातृ दिवस

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
मातृ दिवस
12वाँ
मई 2019
Sunday / रविवार
माँ यशोदा बाल कृष्ण के साथ
Mother Yashoda with baby Krishna

क्या करें?

112वाँ मातृ दिवस समारोह
रेस्तरां में भोजन के लिए जाएँ।
फूलों या उपहार के साथ माँ को आश्चर्यचकित करें।
रसोई की जिम्मेदारियाँ लें।

2019 मदर्स डे

मातृ दिवस को मदर्स डे के नाम से भी जाना जाता है, जो कि एक अधिक प्रचलित नाम है। यह माताओं और मातृत्व का सम्मान करने का उत्सव है। यह दुनिया भर में उत्साह के साथ मनाया जाता है। माँ अपने बच्चे के सम्पूर्ण कल्याण और विकास को सुनिश्चित करने के लिए अपने जीवन में कई त्याग करती है। इसी त्याग और ममता भाव को स्वीकार करनें और उसके प्रति सम्मान प्रकट करनें के लिए मदर्स डे मनाया जाता है। दुनियाभर में बच्चे उपहार देकर, फूल देकर, कामों में सहायता करके और पूरे दिन माँ के साथ व्यतीत करके अपना स्नेह प्रदर्शित करते हैं।

प्राचीन इतिहास

रोमन और यूनानी सभ्यताओं के इतिहास में भी माँ के सम्मान में समर्पित एक दिन का उत्सव देखने को मिलता है। उत्सव के हिस्से के रूप में नागरिक देवी माँ साइबल और रिया की पूजा करते थे। हिन्दु सभ्यता में, नवरात्रि का त्यौहार मनाया जाता है, जिसमें देवी माँ दुर्गा या शक्ति की पूजा नौ दिनों तक की जाती है।

यूनाइटेड किंगडम और यूरोप के अन्य हिस्सों में, ईस्टर से ठीक तीन हफ्ते पहले मदरिंग सन्डे मनाया जाता है। परम्परागत रूप से, लोग मदर चर्च जाते हैं और पूरा दिन लोगो की सेवा करते हैं। इस्लाम में, ऐसे किसी भी उत्सव का उल्लेख नहीं किया गया है। हालाँकि ऐसी शिक्षाएं स्थापित है कि व्यक्ति को पूरी तरह से अपनी माँ के प्रति समर्पित होना चाहिए।

समकालीन इतिहास

संयुक्त राज्य अमेरिका के वेस्ट वर्जीनिया राज्य में, मदर्स डे के आधुनिक संस्करण को पहली बार १९०७ ई० में देखा गया था। यह सेवा करने का एक छोटा उत्सव था, जिसमें लोग सेवा करने को उपस्थित थे। अगले वर्ष यह उत्सव आधिकारिक रूप से बहुत बड़े पैमाने पर मनाए गए थे। १९०९ ई० तक, इस समारोह ने पूरे अमेरिका में गति पकड़ ली और जल्द ही संस्कृति का लोकप्रिय हिस्सा बन गया।

वर्ष १९१४ में, अमेरिकी कांग्रेस ने मई के दूसरे रविवार को आधिकारिक मदर्स डे के रूप में मान्यता देने वाला कानून पारित किया। अमेरिका में अन्ना जार्विस के प्रयासों से ही मातृ दिवस को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मान्यता मिली। उन्होंने इस विचार को साकार किया कि एक दिन माताओं के प्रति सम्मान प्रकट करने और मातृत्व का उत्सव मनानें के लिए भी समर्पित होना चाहिए।

आधुनिक स्वीकृति

आधुनिक समय में मदर्स डे लोगों में बहुत लोकप्रिय है और इसकी प्रभावी स्वीकृति भी है। यह एक महत्वपूर्ण वाणिज्यिक उत्सव भी बन गया है। अंतरराष्ट्रीय ब्रांडों की एसोसिएशन ने दुनिया भर में मदर्स डे की लोकप्रियता को प्रेरित किया है। ब्रांडों ने इसकी लोकप्रियता को देखते, हुए विस्तृत अभियान शुरू करके, छूट देकर और दिन के लिए विशेष उत्पादों को पेश करके व्यवसायिक अवसर हासिल कर लिए है। विश्व के अधिकतम भागों में मदर्स डे वर्ष का एक विशेष कार्यक्रम है।

भारत में प्रासंगिकता

भारत में, मातृ दिवस समारोह शहरी और महानगरीय केंद्रों तक ही सीमित था, लेकिन तेजी से टियर-३ और टियर-४ शहरों में भी लोकप्रिय हो रहा है।

भारत में पिछले कुछ वर्षों में, लोगों को आंतरिक प्रवासन की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। छात्र और कामकाजी पेशेवर मेट्रो या अन्य बड़े शहरों में बेहतर अवसरों के लिए अपने घर छोड़ रहें हैं। घर और माता-पिता से दूर रहना भारतीय मध्यम वर्ग के परिवारों के लिए कुछ नया सा है। लोग पारम्परिक रूप से पीढ़ियों से एक साथ परिवारों में रहते आ रहे हैं। परिवार भारतीय समाज का मूल हैं। अधिकांश मध्यम वर्ग के युवाओं के जीवन में परिवार से विशेष रूप से माताओं से दूरी भावनात्मक खालीपन उत्पन्न करती है। इस प्रकार से मदर्स डे आसानी से उस खालीपन को भरने और मातृत्व बन्धन को मजबूत करने का अच्छा अवसर देता है। वैश्विक संस्कृति विशेष रूप से पश्चिमी का हिस्सा बनने की उत्सुकता ने भी मातृ दिवस को भारत में प्रासंगिकता दी है।

इसके अलावा, सोशल मीडिया के आगमन और विभिन्न सामाजिक और आर्थिक प्लेटफार्मों पर भारतीयों की बढ़ती भागीदारी ने भारत में पश्चिमी उत्सवों के पालन को भी प्रेरित किया है। अधिक से अधिक भारतीय अपनी ऑनलाइन उपस्थिति को चिह्नित करते हुए, वैश्विक उत्सवों और परमपराओं से अधिक परिचित और जागरूक होते हैं। वैश्विक समुदाय का हिस्सा बनने का उत्साह मदर्स डे जैसे कार्यक्रमों की बढ़ती लोकप्रियता के कई कारणों में से एक है।

उत्सव के सामान्य तरीके

इस दिन बच्चे साड़ी, आभूषण, किताबें, फूल या अन्य वस्तुएँ माँ को उपहार देते हैं। लोग परिवार के साथ रात्रिभोज के लिए बाहर जाते हैं। बच्चे दिन भर के लिए रसोई व घर के कामों की जिम्मेदारी लेते है या सहायता करते है। दूर रह रहे लोग माँ को फोन कॉल करते है। सोशल मीडिया पर भी लोग माँ के साथ अपनी यादें व तस्वीरें साझा करते हैं। लघु परिवार पिकनिक, भ्रमण या फिल्में देखने को भी जाते हैं।

संक्षेप में, मातृ दिवस समारोह की स्थापना के पीछे पूर्ण विचार बच्चों को उनकी माँ के साथ के बन्धन को मजबूत करना, माँ के संघर्षों और प्रयासों को स्वीकार्य करना और उन्हें पहचान देना तथा उनके प्रति प्यार व सम्मान को व्यक्त करना है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation