☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2024 बलि पूजा का दिन और समय Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2024 बलि पूजा

iOS Shubh Diwali AppAndroid Shubh Diwali App
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
बलि पूजा
1वाँ
नवम्बर 2024
Friday / शुक्रवार
दानव राजा बलि और विन्ध्यावली की 5 रँगों वाली छवि
Bali Puja

बलि प्रतिपदा मुहूर्त

बलि प्रतिपदा शुक्रवार, नवम्बर 1, 2024 को
बलि पूजा सायाह्नकाल मुहूर्त - 03:43 पी एम से 05:48 पी एम
अवधि - 02 घण्टे 05 मिनट्स
गोवर्धन पूजा शुक्रवार, नवम्बर 1, 2024 को
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ - नवम्बर 01, 2024 को 08:46 ए एम बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त - नवम्बर 02, 2024 को 10:51 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2024 बलि प्रतिपदा

बलि पूजा को बलि प्रतिपदा के नाम से भी जाना जाता है और यह पूजा कार्तिक प्रतिपदा के दिन की जाती है जो कि दीवाली पूजा के अगले दिन होती है। बलि पूजा और गोवर्धन पूजा एक ही दिन आते हैं। जहाँ गोवर्धन पूजा गिरिराज पर्वत और भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है, तो वहीं बलि पूजा दानवों के राजा बलि का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिये की जाती है।

श्री विष्णु भगवान द्वारा दिये गये वरदान के कारण, दीवाली के दौरान भारत में दानव राजा बलि की भी पूजा की जाती है। श्री विष्णु भगवान के वामन अवतार से जुड़ी पौराणिक कथाओं के अनुसार, दानव राजा बलि को भगवान विष्णु ने पाताल लोक में धकेल दिया था। परन्तु, राजा बलि की उदारता के कारण, भगवान विष्णु ने उन्हें भूलोक (अर्थात पृथ्वी लोक) की यात्रा करने के लिये तीन दिन की अनुमति प्रदान की थी। ऐसी मान्यता है कि राजा बलि तीन दिनों तक पृथ्वी पर निवास करते हैं और इस अवसर पर राजा बलि अपने भक्तों को आशीर्वाद प्रदान करते हैं।

धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार राजा बलि की छवि भवन या निवास स्थान के मध्य में उनकी पत्नी विन्ध्यावली के साथ बनानी चाहिये। छवि को पाँच अलग-अलग रँगों से विभूषित करना चाहिये। बलि पूजा के दौरान पाँच रंगों से विभूषित छवि की पूजा करनी चाहिये।

दक्षिण भारत में, ओणम उत्सव के दौरान राजा बलि की पूजा की जाती है। ध्यान देने योग्य बात यह है कि ओणम की अवधारणा उत्तर भारत में बलि पूजा के समान ही है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation