☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

1744 दीवाली के दौरान धन्वन्तरि त्रयोदशी Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

1744 धन्वन्तरि जयन्ती

iOS Shubh Diwali AppAndroid Shubh Diwali App
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
धन्वन्तरि जयन्ती
1वाँ
नवम्बर 1744
Sunday / रविवार
भगवान धन्वन्तरि
Lord Dhanvantari

धन्वन्तरि त्रयोदशी पूजा मुहूर्त

धन्वन्तरि पूजा रविवार, नवम्बर 1, 1744 को
धन्वन्तरि पूजा प्रातःकाल मुहूर्त - 06:29 ए एम से 08:34 ए एम
अवधि - 02 घण्टे 05 मिनट्स
धनत्रयोदशी रविवार, नवम्बर 1, 1744 को
त्रयोदशी तिथि प्रारम्भ - नवम्बर 01, 1744 को 01:02 पी एम बजे
त्रयोदशी तिथि समाप्त - नवम्बर 02, 1744 को 10:58 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1744 धन्वन्तरि त्रयोदशी

धन्वन्तरि त्रयोदशी को दीवाली पूजा के दो दिन पहले मनाया जाता है। जैसा कि नाम से ज्ञात होता है इसे कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन को भगवान धन्वन्तरि, जो कि आयुर्वेद के पिता और गुरु है, उनके जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। भगवान धन्वन्तरि देवताओं के चिकित्सक है और भगवान विष्णु के अवतारों में से एक माने जाते हैं। धन्वन्तरि त्रयोदशी के दिन को धन्वन्तरि जयन्ती के नाम से भी जाना जाता है।

पुराणों के अनुसार समुद्र मन्थन के दौरान धन्वन्तरि इसी दिन अमृत पात्र के साथ प्रकट हुए थे। इसीलिए जो लोग आयुर्वेद और दवाओं का अभ्यास करते हैं, उनके लिए धन्वन्तरि त्रयोदशी का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इस दिन लोग भगवान धन्वन्तरि की पूजा करते हैं और उनसे अच्छे स्वास्थ्य की प्रार्थना करते हैं।

इसी दिन धनत्रयोदशी या धनतेरस का पर्व भी मनाया जाता है। धनत्रयोदशी के सन्दर्भ में यह दिन धन और समृद्धि से सम्बन्धित है और लक्ष्मी-कुबेर पूजा के लिए यह दिन महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन लोग धन-सम्पत्ति और समृद्धि की प्राप्ति के लिए देवी लक्ष्मी के साथ-साथ भगवान कुबेर की पूजा करते हैं। भगवान कुबेर जिन्हें धन-सम्पत्ति का कोषाध्यक्ष माना जाता है और श्री लक्ष्मी जिन्हें धन-सम्पत्ति की देवी माना जाता है, की पूजा साथ में की जाती है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation