☰
Search
Mic
हि
Android Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2018 अहोई अष्टमी व्रत का दिन और पूजा का समय Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2018 अहोई अष्टमी

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
अहोई अष्टमी
30वाँ
अक्टूबर 2018
Tuesday / मंगलवार
अहोई माता का दिन
Ahoi Ashtami

अहोई अष्टमी के दिन सायं सन्ध्या

अहोई अष्टमी मंगलवार, अक्टूबर 30, 2018 को
अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त - 05:51 पी एम से 07:12 पी एम
अवधि - 01 घण्टा 21 मिनट्स
गोवर्धन राधा कुण्ड स्नान मंगलवार, अक्टूबर 30, 2018 को
तारों को देखने के लिये साँझ का समय - 06:20 पी एम
अष्टमी तिथि प्रारम्भ - अक्टूबर 31, 2018 को 01:40 ए एम बजे
अष्टमी तिथि समाप्त - अक्टूबर 31, 2018 को 11:40 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2018 अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी के दिन माताएँ अपने पुत्रों की भलाई के लिए उषाकाल (भोर) से लेकर गोधूलि बेला (साँझ) तक उपवास करती हैं। साँझ के दौरान आकाश में तारों को देखने के बाद व्रत तोड़ा जाता है। कुछ महिलाएँ चन्द्रमा के दर्शन करने के बाद व्रत को तोड़ती है लेकिन इसका अनुसरण करना कठिन होता है क्योंकि अहोई अष्टमी के दिन रात में चन्द्रोदय देर से होता है।

अहोई अष्टमी व्रत का दिन करवा चौथ के चार दिन बाद और दीवाली पूजा से आठ दिन पहले पड़ता है। करवा चौथ के समान अहोई अष्टमी उत्तर भारत में ज्यादा प्रसिद्ध है। अहोई अष्टमी का दिन अहोई आठें के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह व्रत अष्टमी तिथि, जो कि माह का आठवाँ दिन होता है, के दौरान किया जाता है।

करवा चौथ के समान अहोई अष्टमी का दिन भी कठोर उपवास का दिन होता है और बहुत सी महिलाएँ पूरे दिन जल तक ग्रहण नहीं करती हैं। आकाश में तारों को देखने के बाद ही उपवास को तोड़ा जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation