☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingThemeआधुनिक थीम चुनें
Clock

1908 गौरी हब्बा, स्वर्ण गौरी व्रत का दिन Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

1908 स्वर्ण गौरी व्रत

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
स्वर्ण गौरी व्रत
29वाँ
अगस्त 1908
Saturday / शनिवार
देवी गौरी भगवान शिव की पूजा करते हुए
Hartalika Teej Puja

स्वर्ण गौरी व्रत

गौरी हब्बा शनिवार, अगस्त 29, 1908 को
प्रातःकाल गौरी पूजा मूहूर्त - 05:16 ए एम से 07:55 ए एम
अवधि - 02 घण्टे 39 मिनट्स
प्रदोषकाल गौरी पूजा मूहूर्त - 06:31 पी एम से 08:40 पी एम
अवधि - 02 घण्टे 09 मिनट्स
तदिगे तिथि प्रारम्भ - अगस्त 28, 1908 को 10:32 पी एम बजे
तदिगे तिथि समाप्त - अगस्त 30, 1908 को 12:28 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1908 गौरी हब्बा

गौरी हब्बा, देवी पार्वती के गौरी अवतार को समर्पित एक हिन्दु त्यौहार है। कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में यह एक अत्यन्त महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह पर्व गणेश चतुर्थी से एक दिन पूर्व मनाया जाता है।

गौरी हब्बा के दिन देवी गौरी पूजा की जाती है। माता गौरी देवी पार्वती के अत्यन्त सुन्दर गोरे रँग का अवतार हैं। इस पावन पर्व पर, स्त्रियाँ सुखी वैवाहिक जीवन हेतु, देवी गौरी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिये स्वर्ण गौरी व्रत का पालन करती हैं।

यह माना जाता है कि, इस दिन देवी गौरी इस तरह घर में आती है, जैसे कोई अन्य साधारण विवाहित स्त्री अपने माता-पिता के घर आती है। अगले दिन भगवान गणेश, उनके पुत्र, ऐसे आते हैं जैसे कि माता गौरी को कैलाश पर्वत पर वापस ले जाने आये हो। गौरी हब्बा पर्व को महाराष्ट्र तथा अन्य उत्तर भारतीय राज्यों में, हरतालिका तीज के रूप में जाना जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation