☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2021 कारादाइयन नौम्बू का दिन और समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिए

DeepakDeepak

2021 कारादाइयन नौम्बू

नई दिल्ली, भारत
कारादाइयन नौम्बू
14वाँ
मार्च 2021
Sunday / रविवार
कारादाइयन नौम्बू
Karadaiyan Nombu

कारादाइयन नौम्बू शुभ मुहूर्त

कारादाइयन नौम्बू रविवार, मार्च 14, 2021 को
कारादाइयन नौम्बू व्रत - 06:32 ए एम से 06:18 पी एम
अवधि - 11 घण्टे 46 मिनट्स
मंजल सरदु मुहूर्त - 06:18 पी एम

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2021 कारादाइयन नौम्बू

कारादाइयन नौम्बू एक प्रमुख तमिल त्यौहार है। यह त्यौहार मीन संक्रान्ति या मीन संक्रमण के समय मनाया जाता है। कारादाइयन नौम्बू उस समय मनाया जाता है, जब तमिल माह मासी समाप्त होता है तथा पंगुनी माह का प्रारम्भ होता है। करदई इस दिन बनाये जाने वाले एक विशेष नैवेद्यम का नाम है तथा नौम्बू का अर्थ है व्रतम अथवा उपवासम

यह माना जाता है कि सावित्री ने अपने पति सत्यवान को मृत्यु के देवता यम से इसी दिन पुनः प्राप्त किया था। इस पौराणिक कथा के कारण कारादाइयन नौम्बू को सावित्री व्रतम के नाम से भी जाना जाता है। कारादाइयन नौम्बू के दिन स्त्रियाँ देवी गौरी की पूजा करती हैं तथा उन्हें कारादाइयन नौम्बू नैवेद्यम अर्पित करती हैं। पूजन के उपरान्त स्त्रियाँ अपने पति की रक्षा के लिये एक पवित्र पीला सूती धागा बाँधती हैं, जिसे मंजल सरदु अथवा नौम्बू चरडू के नाम से जाना जाता है।

विवाहित स्त्रियाँ अपने पति की दीर्घायु के लिये इस व्रत को करती हैं जबकि अविवाहित कन्यायें सुयोग्य वर को पाने के लिये कारादाइयन नौम्बू व्रत करती हैं। इस दिन विवाहित स्त्रियाँ तथा कन्यायें पीले वस्त्र धारण करती हैं तथा हिन्दु देवियों से अपने पति की दीर्घायु के लिये अथवा भविष्य में आदर्श पुरुष को अपने पति के रूप में पाने के लिये प्रार्थना करती हैं।

जिस दिन भगवान सूर्य कुम्भ राशि से मीन राशि में प्रवेश करते हैं, उसी दिन सूर्योदय से कारादाइयन व्रतम किया जाता है। सावित्री नौम्बू का उपवास खोलने के लिये शुभः मुहूर्त मीन संक्रान्ति के समय पर आधारित होता है, जो वर्तमान दिन के सूर्योदय से अगले दिन सूर्योदय के बीच किसी भी समय हो सकता है। कृपया स्मरण रहे कि उपवास की अवधि स्थानीय सूर्योदय एवं संक्रान्ति के समय पर निर्भर करती है तथा सभी स्थानों के लिये भिन्न-भिन्न होती है।

मंजल सरदु को मासी मासम के समाप्त होने तथा पंगुनी मासम के प्रारम्भ होने पर बाँधा जाता है। द्रिक पञ्चाङ्ग, विश्व के 20,000 से अधिक शहरों के लिये मंजल सरदु बाँधने का सही समय जो कि मीन संक्रमण का भी समय है, सूचीबद्ध करता है। मीन संक्रमण दिन में किसी भी समय हो सकता है और कई बार यह मध्यरात्रि के बाद होता है जो कि पूजन-अनुष्ठान करने के लिये उपयुक्त समय नहीं है। हालाँकि, करदी नौम्बू और अन्य अनुष्ठानों के लिये मीन संक्रमण के निश्चित समय को ही चुना जाता है।

यदि मंजल सरदु का शुभः मुहूर्त मध्यरात्रि के पश्चात किन्तु अगले दिन सूर्योदय से पूर्व आता है, तो हम इसे 24+ के प्रारूप में दिखाते हैं क्योंकि हिन्दु दिवस सूर्योदय के साथ आरम्भ होकर सूर्योदय पर ही समाप्त होता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation