☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

1983 दीवाली के लिए लक्ष्मी पूजा का समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिए

DeepakDeepak
लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
1983 लक्ष्मी पूजा
📅वर्ष चुनें/placeholderClose
iOS Shubh Diwali AppAndroid Shubh Diwali App
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
नई दिल्ली, भारत
लक्ष्मी पूजा
4वाँ
नवम्बर 1983
Friday / शुक्रवार
लक्ष्मी, गणेश एवं सरस्वती पूजन
Lakshmi Ganesha Saraswati Pujan
प्रदोष काल मुहूर्त

प्रदोष काल मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा शुक्रवार, नवम्बर 4, 1983 पर
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त - 06:10 पी एम से 08:05 पी एम
अवधि - 01 घण्टा 55 मिनट्स
प्रदोष काल - 05:34 पी एम से 08:11 पी एम
वृषभ काल - 06:10 पी एम से 08:05 पी एम
अमावस्या तिथि प्रारम्भ - नवम्बर 04, 1983 को 05:35 ए एम बजे
अमावस्या तिथि समाप्त - नवम्बर 05, 1983 को 03:45 ए एम बजे
निशिता काल मुहूर्त

निशिता काल मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त - 11:39 पी एम से 12:31 ए एम, नवम्बर 05
अवधि - 00 घण्टे 52 मिनट्स
निशिता काल - 11:39 पी एम से 12:31 ए एम, नवम्बर 05
सिंह लग्न - 12:40 ए एम से 02:57 ए एम, नवम्बर 05
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त स्थिर लग्न के बिना
अमावस्या तिथि प्रारम्भ - नवम्बर 04, 1983 को 05:35 ए एम बजे
अमावस्या तिथि समाप्त - नवम्बर 05, 1983 को 03:45 ए एम बजे
चौघड़िया पूजा मुहूर्त

चौघड़िया पूजा मुहूर्त

दीवाली लक्ष्मी पूजा के लिये शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 06:35 ए एम से 10:42 ए एम
अपराह्न मुहूर्त (चर) - 04:12 पी एम से 05:34 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (शुभ) - 12:04 पी एम से 01:27 पी एम
रात्रि मुहूर्त (लाभ) - 08:50 पी एम से 10:27 पी एम
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 12:05 ए एम से 03:45 ए एम, नवम्बर 05
अन्य वर्षों में लक्ष्मी पूजा का दिन

अन्य वर्षों में लक्ष्मी पूजा का दिन

1980 - शुक्रवार, 7 नवम्बर
1981 - मंगलवार, 27 अक्टूबर
1982 - सोमवार, 15 नवम्बर
1983 - शुक्रवार, 4 नवम्बर
1984 - बुधवार, 24 अक्टूबर
1985 - मंगलवार, 12 नवम्बर
1986 - शनिवार, 1 नवम्बर
1987 - बृहस्पतिवार, 22 अक्टूबर
1988 - बुधवार, 9 नवम्बर
1989 - रविवार, 29 अक्टूबर
1990 - बृहस्पतिवार, 18 अक्टूबर

* लक्ष्मी पूजा के दिनों की गणना नई दिल्ली, भारत के लिये की गयी है।

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1983 लक्ष्मी पूजा | दीवाली पूजा

लक्ष्मी पूजा व्रत और अनुष्ठान

दीवाली के दिन प्रातः जल्दी उठकर अपने परिवार के पूर्वजों व कुल के देवी-देवताओं का पूजन कर आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है। अमावस्या होने के कारण इस दिन पूर्वजों के निमित्त श्राध्द पूजन भी किया जाता है। पारम्परिक रूप से इस दिन उपवास रखा जाता है। माता लक्ष्मी के अनुयायी पूरे दिन का उपवास रखते हैं व शाम को लक्ष्मी पूजा के बाद ही अन्न ग्रहण करते हैं।

लक्ष्मी पूजा की तैयारी

दीवाली या लक्ष्मी पूजा के दिन, हिन्दु अपने घरों और दुकानों को गेंदे के फूल की लड़ियों व अशोक, आम तथा केले के पत्तों से सजाते हैं। इस दिन कलश में नारियल स्थापित कर, उसे घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर रखने को शुभ माना जाता है।

लक्ष्मी पूजा के लिए, एक पर्याप्त ऊंचाई वाले आसन के दाहिनी ओर लाल कपड़ा बिछाकर, उस पर श्री गणेश व देवी लक्ष्मी की सुन्दर रेशमी वस्त्रों व आभूषणों से सुसज्जित मूर्तियों को स्थापित किया जाता है। आसन के बायीं ओर एक सफ़ेद कपड़ा बिछाकर, उस पर नवग्रह स्थापित किये जाते हैं।

सफेद कपड़े पर नौ जगह अक्षत (अखण्डित चावल) के छोटे समूह बनाकर उनपर नवग्रह की विधिवत स्थापना की जाती है। लाल कपड़े पर गेहूं या गेहूं के आटे से सोलह टीले बनाये जाते हैं। लक्ष्मी पूजा पूर्ण विधि-विधान के साथ सम्पन्न करने हेतु लक्ष्मी पूजा विधि का अनुसरण करें।

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा को प्रदोष काल के दौरान किया जाना चाहिये, जो कि सूर्यास्त के बाद प्रारम्भ होता है और लगभग 2 घण्टे 24 मिनट तक रहता है। कुछ स्त्रोत लक्ष्मी पूजा के लिए महानिशिता काल का सुझाव भी देते हैं। हमारे विचार में महानिशिता काल तांत्रिक समुदायों और पण्डितों, जो इस विशेष समय के दौरान लक्ष्मी पूजा के बारे में अधिक जानते हैं, के लिए अधिक उपयुक्त होता है। सामान्य लोगों के लिए प्रदोष काल मुहूर्त ही उपयुक्त है।

लक्ष्मी पूजा को करने के लिए हम चौघड़िया मुहूर्त को देखने की सलाह नहीं देते हैं, क्यूँकि वे मुहूर्त यात्रा के लिए उपयुक्त होते हैं। लक्ष्मी पूजा के लिए सबसे उपयुक्त समय प्रदोष काल के दौरान ही होता है, जब स्थिर लग्न प्रचलित होती है। ऐसा माना जाता है, कि अगर स्थिर लग्न के दौरान लक्ष्मी पूजा की जाये तो लक्ष्मीजी घर में ठहर जाती है। इसीलिए लक्ष्मी पूजा के लिए यह समय सबसे उपयुक्त माना जाता है। वृषभ लग्न को स्थिर माना जाता है और दीवाली के त्यौहार के दौरान यह अधिकतर प्रदोष काल के साथ अधिव्याप्त होता है।

लक्ष्मी पूजा के लिए हम यथार्थ समय उपलब्ध कराते हैं। हमारे दर्शाये गए मुहूर्त के समय में अमावस्या, प्रदोष काल और स्थिर लग्न सम्मिलित होते हैं। हम स्थान के अनुसार मुहूर्त उपलब्ध कराते हैं, इसीलिए आपको लक्ष्मी पूजा का शुभ समय देखने से पहले अपने शहर का चयन कर लेना चाहिये।

अनेक समुदाय, विशेष रूप से गुजराती व्यापारी लोग, दीवाली पूजा के दौरान चोपड़ा पूजन करते हैं। चोपड़ा पूजा के दौरान देवी लक्ष्मीजी की उपस्थिति में नए खाता पुस्तकों का शुभारम्भ किया जाता है और अगले वित्तीय वर्ष के लिए उनसे आशीर्वाद की प्रार्थना की जाती है। दीवाली पूजा को दीपावली पूजा और लक्ष्मी गणेश पूजन के नाम से भी जाना जाता है।

द्रिक पञ्चाङ्ग के सभी सदस्यों की ओर से आपको दीवाली 1983 की हार्दिक शुभकामनायें।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation