☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2023 ओणम | थिरुवोणम का दिन Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2023 थिरुवोणम

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
थिरुवोणम
29वाँ
अगस्त 2023
Tuesday / मंगलवार
ओणम उत्सव के दौरान नृत्य करती महिलाएँ
Onam

थिरुवोणम समय

थिरुवोणम मंगलवार, अगस्त 29, 2023 को
थिरुवोणम् नक्षत्रम् प्रारम्भ - अगस्त 28, 2023 को 05:13 पी एम बजे
थिरुवोणम् नक्षत्रम् समाप्त - अगस्त 29, 2023 को 02:20 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2023 थिरुवोणम | ओणम

ओणम विशेषतः एक मलयाली त्यौहार है जो मलयालम भाषी लोगों के द्वारा मुख्य रूप से मनाया जाता है। ओणम का दिन सौर कैलेण्डर पर आधारित होता है। ओणम पर्व मलयालम सौर कैलेण्डर के चिंगम माह में मनाया जाता है। चिंगम माह अन्य सौर कैलेण्डरों में सिंह माह तथा तमिल कैलेण्डर में अवनी माह के नाम से जाना जाता है। चिंगम माह में जिस दिन थिरुवोणम नक्षत्र प्रबल होता है, उस ही दिन ओणम पर्व मनाया जाता है। थिरुवोणम नक्षत्र अन्य भारतीय पञ्चाङ्गों में श्रवण नक्षत्र के नाम से जाना जाता है।

ओणम का पर्व भगवान विष्णु के वामन रूप में अवतार लेने और महान सम्राट महाबलि के धरती पर पुनः आगमन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। ओणम का पर्व दैत्य राज महाबलि की पाताल लोक से पृथ्वी लोक पर वार्षिक यात्रा को समर्पित है। ऐसी मान्यता है कि, थिरुवोणम के दिन दैत्य राज महाबलि प्रत्येक मलयाली घर में जाकर अपनी प्रजा से मिलते हैं।

ओणम का उत्सव अथम, जिस दिन अथम नक्षत्र प्रबल होता है, के दिन से आरम्भ होता है और 10 दिन तक अर्थात थिरुवोणम तक जारी रहता है। अथम नक्षत्र को अन्य हिन्दु पञ्चाङ्गों में हस्त नक्षत्र के नाम से जाना जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation