☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingThemeआधुनिक थीम चुनें
Clock

1911 दीवाली के लिए शारदा पूजा मुहूर्त नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिए

DeepakDeepak

1911 शारदा पूजन

iOS Shubh Diwali AppAndroid Shubh Diwali App
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
नई दिल्ली, भारत
शारदा पूजन
21वाँ
अक्टूबर 1911
Saturday / शनिवार
दीवाली उत्सव के दौरान शारदा पूजा
Goddess Sharda

शारदा पूजा मुहूर्त

शारदा पूजा शनिवार, अक्टूबर 21, 1911 को
दीवाली शारदा पूजा के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
अपराह्न मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 12:06 पी एम से 04:21 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (लाभ) - 05:47 पी एम से 07:22 पी एम
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 08:56 पी एम से 01:41 ए एम, अक्टूबर 22
उषाकाल मुहूर्त (लाभ) - 04:51 ए एम से 06:25 ए एम, अक्टूबर 22
अमावस्या तिथि प्रारम्भ - अक्टूबर 21, 1911 को 09:22 ए एम बजे
अमावस्या तिथि समाप्त - अक्टूबर 22, 1911 को 09:39 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1911 दीवाली शारदा पूजा

दीपावली पूजा को गुजरात में शारदा पूजा और चोपड़ा पूजा के नाम से भी जाना जाता है। शारदा पूजा देवी सरस्वती को समर्पित है। सरस्वती, जिन्हें हिन्दु धर्म में ज्ञान, बुद्धि व विद्या की देवी माना जाता है, को शारदा के नाम से भी जाना जाता है।

दीवाली के दिन मुख्य रूप से माता लक्ष्मी, जिन्हें धन व समृद्धि की देवी माना जाता है, की पूजा की जाती है। हालाँकि, देवी शारदा (सरस्वती) व श्री गणेशजी के पूजन का भी इस दिन अत्यधिक महत्व है। पारम्परिक तौर पर, माता लक्ष्मी, माता सरस्वती और श्री गणेश, तीनों की पूजा दीवाली के दिन पूरी श्रद्धा से की जाती है। दीवाली की पूजा के लिए बाजार में विशेषतौर पर ऐसे चित्र और मूर्तियां उपलब्ध होते हैं, जिसमें लक्ष्मी, सरस्वती और गणेश साथ में विराजमान होते हैं।

हिन्दु धर्म के अनुसार, ऐसा माना जाता है की ज्ञान और बुद्धि के बिना धन स्थाई रूप से किसी व्यक्ति के पास नहीं रह सकता है। देवी लक्ष्मी के आशीर्वाद से कोई व्यक्ति विशेष धन व सम्पदा से परिपूर्ण हो सकता है। लेकिन अगर श्री गणेश व देवी सरस्वती की पूजा कर उनसे आशीर्वाद नहीं लिया गया तो न तो धन व समृद्धि का स्वामित्व स्थाई रह पाएगा और न ही उसमे वृद्धि हो पाएगी। श्री गणेशजी व देवी सरस्वती क्रमशः बुद्धि व विद्या के प्रदाता हैं। अतः स्थाई संपत्ति के लिए बुद्धि और उस संपत्ति की वृद्धि हेतु ज्ञान की आवश्यकता है। इसलिए, हिन्दु परिवारों में लोग, दीवाली के दिन लक्ष्मी के आशीर्वाद के साथ ही बुद्धि व ज्ञान के प्रदाता को भी प्रसन्न करने हेतु गणेश व सरस्वती की भी पूजन-अर्चन करते हैं।

शारदा पूजा का दिन, विद्यार्थियों या ज्ञान अर्जन करने वालों के लिए विशेष महत्व रखता है। इस दिन विद्यार्थी अपने विद्यार्जन में सफलता हेतु देवी सरस्वती की विधिवत पूजन करके उनसे आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

इसके अतिरिक्त, शारदा पूजा का व्यापारी वर्ग में भी विशेष महत्व व स्थान है। गुजरात में परम्परागत बही-खातों को चोपड़ा कहा जाता है। शारदा पूजा के दिन नए चोपड़ा की पूजा की जाती है। देवी लक्ष्मी, देवी सरस्वती व श्री गणेश से समृद्धि व सफलता के लिए प्रार्थना की जाती है। क्यूँकि अवधारणा है की किसी भी व्यवसाय के सफल होने के लिए उपरोक्त तीनों देवी-देवताओं का आशीर्वाद अत्यंत आवश्यक है।

अतः शारदा पूजा दीवाली पूजा को न सिर्फ पूर्णतः प्रदान करती है, बल्कि उसका एक अभिन्न अंग है। शारदा पूजा गुजरात में चोपड़ा पूजन और दीवाली पूजन के नाम से भी प्रचलित है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation