☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingTheme
आधुनिक थीम चुनें
Clock

1912 गायत्री जयन्ती का दिन और पूजा का समय Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

1912 गायत्री जयन्ती

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
गायत्री जयन्ती
27वाँ
अगस्त 1912
Tuesday / मंगलवार
देवी गायत्री
Goddess Gayatri

गायत्री जयन्ती मुहूर्त

गायत्री जयन्ती मंगलवार, अगस्त 27, 1912 को
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ - अगस्त 26, 1912 को 12:43 पी एम बजे
पूर्णिमा तिथि समाप्त - अगस्त 27, 1912 को 02:58 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

गायत्री जयन्ती 1912

गायत्री जयन्ती, देवी गायत्री के जन्मदिवस के उपलक्ष में मनायी जाती है। समस्त वेदों की देवी होने के कारण देवी गायत्री को वेद माता के रूप में भी जाना जाता है।

देवी गायत्री को ब्राह्मण के समस्त अभूतपूर्व गुणों का प्रतिरूप माना जाता है। देवी गायत्री को हिन्दु त्रिमूर्ति (ब्रह्मा, विष्णु, महेश) की देवी के रूप में भी पूजा जाता है। उन्हें समस्त देवताओं की माता तथा देवी सरस्वती, देवी पार्वती एवं देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है।

अधिकांश लोग, विशेष रूप से दक्षिण भारत में, श्रावण माह की पूर्णिमा तिथि पर गायत्री जयन्ती मनाते हैं। मतान्तर, अथार्त विचारों में भिन्नता के कारण गायत्री जयन्ती ज्येष्ठ चन्द्र माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि पर भी मनायी जाती है। मतान्तर गायत्री जयन्ती अधिकांशतः गंगा दशहरा के अगले दिन मनायी जाती है।

देवी गायत्री के भक्त इस अवसर पर उन्हें प्रसन्न करने हेतु विशेष प्रार्थना करते हैं तथा गायत्री मन्त्र का निरन्तर जाप करते हैं।

आधुनिक भारत में, श्रावण पूर्णिमा की गायत्री जयन्ती का दिन संस्कृत दिवस के रूप में मनाया जाता है। संस्कृत दिवस संस्कृत भाषा के महत्व को समर्पित एक विशेष दिन है। संस्कृत दिवस के अवसर पर इस वैदिक भाषा के प्रचार-प्रसार हेतु विभिन्न प्रकार की गतिविधियों, सेमिनार और कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है। वर्तमान में संस्कृत भाषा का उपयोग मात्र पूजा-पाठ एवं शैक्षिक गतिविधियों तक ही समिति रह गया है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation