☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
दीवाली पूजा कैलेण्डर📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Dhanteras Puja

Deepak2020 गणेश जयन्ती पूजा दिन और समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, इण्डिया के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
2020 गणेश जयन्ती
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
नई दिल्ली, इण्डिया
गणेश जयन्ती
28वाँ
जनवरी 2020
Tuesday / मंगलवार
गणेश जयन्ती
Ganesh Chaturthi
गणेश जयन्ती पूजा मुहूर्त

गणेश जयन्ती पूजा मुहूर्त

गणेश जयन्ती मंगलवार, जनवरी 28, 2020 को
मध्याह्न गणेश पूजा मुहूर्त - 11:30 ए एम से 01:39 पी एम
अवधि - 02 घण्टे 09 मिनट्स
वर्जित चन्द्रदर्शन का समय - 09:26 ए एम से 09:04 पी एम
अवधि - 11 घण्टे 38 मिनट्स
एक दिन पश्चात्, वर्जित चन्द्रदर्शन का समय - 09:58 ए एम से 09:56 पी एम, जनवरी 29
अवधि - 11 घण्टे 58 मिनट्स
चतुर्थी तिथि प्रारम्भ - जनवरी 28, 2020 को 08:21 ए एम बजे
चतुर्थी तिथि समाप्त - जनवरी 29, 2020 को 10:45 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, इण्डिया के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2020 गणेश जयन्ती

भगवन श्री गणेश के अवतरण-दिवस को गणेश जयन्ती के रूप में मनाया जाता है। हिन्दु पञ्चाङ्ग के अनुसार, गणेश जयन्ती माघ माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाई जाती है, जो की ग्रीगोरियन कैलेण्डर के जनवरी व फरवरी माह के मध्य आती है।

माघ शुक्ल गणेश जयंती को मुख्यतः महाराष्ट्र व कोंकण के तटीय क्षेत्रों में मनाया जाता है। भारत के अन्य क्षेत्रों में भाद्रपद माह में आने वाली चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। इसके अतिरिक्त, मध्याह्न व्यापिनी पूर्वविद्धा चतुर्थी को भी गणेश जयंती के रूप में मनाया जाता है।

यहाँ ध्यान देने योग्य बात यह है की, भाद्रपद गणेश चतुर्थी, जो महाराष्ट्र का एक प्रमुख पर्व है, सर्वसम्मति से गणेश जयंती के रूप में नहीं मनाई जाती है। बल्कि, माघ माह में आने वाली चतुर्थी को ही गणेश जयंती के रूप में मनाया जाता है।

माघ शुक्ल गणेश जयंती को महाराष्ट्र में माघ शुक्ल चतुर्थी, तिल कुंड चतुर्थी और वरद चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation