☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
#घर_पर_रहें_सुरक्षित_रहें
चैत्र राम नवरात्रि📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak1666 मीरा बाई जयन्ती का दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
1666 मीराबाई जयन्ती
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
शहर बदलेंclose
भारतनई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत
नई दिल्ली, भारत
मीराबाई जयन्ती
12वाँ
अक्टूबर 1666
Tuesday / मंगलवार
मीरा बाई
Meerabai
मीरा बाई जयन्ती

मीरा बाई जयन्ती

मीराबाई की लगभग 168वाँ जन्म वर्षगाँठ
मीराबाई जयन्ती मंगलवार, अक्टूबर 12, 1666 को
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ - अक्टूबर 12, 1666 को 05:03 ए एम बजे
पूर्णिमा तिथि समाप्त - अक्टूबर 13, 1666 को 07:28 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

मीरा बाई जयन्ती 1666

Meera Bai (1498-1547 circa) was a great Hindu poet and ardent devotee of Lord Krishna. She was one of the significant Sants of the Vaishnava Bhakti movement. Some 1300 poems written in passionate praise of Lord Krishna are credited to her.

Meera was a Rajput princess born about 1498 in Kudaki, Rajasthan. She was married to Bhoj Raj, the ruler of Chittor. She took no interest in her spouse as she believed herself to be married to Lord Krishna. According to popular belief, she miraculously merged with the image of Krishna in circa 1547 at the age of 49.

Historians believe that Meera Bai was a disciple of Guru Ravidas and accept popular beliefs which associate her with Sant Tulsidas and her interactions with Rupa Goswami in Vrindavan.

We found no historical record on the birth anniversary of Meera Bai. However as per Hindu lunar calendar, the day of Sharad Purnima is observed as the birth anniversary of Meerabai.

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation