☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2021 दुर्गा पूजा के दौरान कल्पारम्भ और अकाल बोधन एशबर्न, Virginia, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2021 कल्पारम्भ

एशबर्न, संयुक्त राज्य अमेरिका
कल्पारम्भ
11वाँ
अक्टूबर 2021
Monday / सोमवार
कल्पारम्भ और अकाल बोधन
Kalparambha

कल्पारम्भ पूजा समय

कल्पारम्भ सोमवार, अक्टूबर 11, 2021 को
कोलाबोऊ पूजा मंगलवार, अक्टूबर 12, 2021 को

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में एशबर्न, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2021 कल्पारम्भ और अकाल बोधन

कल्पारम्भ, पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा अनुष्ठानों के शुभारम्भ का प्रतीक है। कल्पारम्भ पूजा को कोलाबोऊ पूजा जिसे नवपत्रिका पूजा के नाम से भी जाना जाता है, से एक दिन पहले किया जाता है। अधिकांश वर्षों में, कल्पारम्भ का दिन चन्द्र माह की षष्ठी तिथि पर आता है।

कल्पारम्भ के अनुष्ठान अन्य राज्यों में मनाये जाने वाले बिल्व निमन्त्रण के समान है। इसी दिन, देवी दुर्गा को बिल्व वृक्ष अथवा कलश में निवास करने के लिये आमन्त्रित किया जाता है। देवी दुर्गा को आमन्त्रित करने के इस अनुष्ठान को आमन्त्रण के रूप में जाना जाता है तथा बिल्व वृक्ष में देवी के निवास करने को अधिवास के रूप में जाना जाता है। देवी दुर्गा का आवाहन करने का सबसे अच्छा समय सायंकाल है, जो सूर्यास्त से लगभग 2 घण्टे 24 मिनट पहले का समय होता है।

कल्पारम्भ के दिन को अकाल बोधन के दिन के लिये भी जाना जाता है। अकाल बोधन का अर्थ होता है देवी दुर्गा का असामयिक आह्वान करना। पारम्परिक रूप से देवी दुर्गा की पूजा हिन्दु कैलेण्डर के चैत्र माह के दौरान की जाती थी। वर्तमान में भी चैत्र माह के दौरान नौ दिनों तक देवी दुर्गा की पूजा की जाती है और इस अवधि को चैत्र नवरात्रि के रूप में जाना जाता है। हालाँकि, समय के साथ चैत्र नवरात्रि शरद नवरात्रि की तुलना में कम महत्वपूर्ण मानी जाने लगी है।

हिन्दु मान्यताओं के अनुसार, वे भगवान राम थे जिन्होंने राक्षस रावण से युद्ध करने से पहले देवी दुर्गा का अकाल बोधन अनुष्ठान किया था। भगवान राम ने अपनी धर्म पत्नी देवी सीता को रावण के बन्धन से मुक्त करने के लिये युद्ध आरम्भ करने से पूर्व देवी दुर्गा से आशीर्वाद लिया था। यह माना जाता है कि भगवान राम द्वारा देवी दुर्गा के इस असामयिक आवाहन से शरद नवरात्रि तथा दुर्गा पूजा की परम्परा का आरम्भ हुआ था।

दुर्गा पूजा के दौरान कल्पारम्भ अनुष्ठान और नवरात्रि के दौरान प्रतिपदा तिथि पर किये जाने वाला घटस्थापना या कलशस्थापना प्रतीकात्मक रूप से एक जैसे होते हैं। पश्चिम बंगाल की तीन दिवसीय दुर्गा पूजा, अन्य राज्यों में मनायी जाने वाली नौ दिवसीय नवरात्रि का एक लघु संस्करण है। धार्मिक पुस्तकों में, सप्तदिवसीय नवरात्रि, पञ्चदिवसीय नवरात्रि, त्रिदिवसीय नवरात्रि , द्विदिवसीय नवरात्रि तथा एकदिवसीय नवरात्रि का उल्लेख मिलता है। जिन भक्तगणों के लिये नौ दिनों तक देवी दुर्गा की आराधना करना सम्भव नहीं है, वे उपरोक्त नवरात्रियों में से किसी का भी यथाशक्ति पालन कर सकते हैं।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation