☰
Search
ने
Sign InSign In SIGN INAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
कोविड-19 महामारी
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepakनेपाली दैनिक पात्रो | दैनिक क्यालेन्डर नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत को लागिDeepak

नेपाली पात्रो नई दिल्ली को लागि
बुधवार, अक्टोबर 30, 1912
📅मिति छान्नुहोस्https://www.drikpanchang.com/placeholderClose
Tithi Icon

15, कार्तिक

कृष्ण पक्ष, पञ्चमी
1969 बिक्रम सम्वत
नई दिल्ली, भारत

30

अक्टोबर 1912
बुधवार

सूर्योदय र चन्द्रोदय

Sunriseसूर्योदय - 06:31 ए एम
Sunsetसूर्यास्त - 05:38 पी एम
Moonriseचन्द्रोदय - 08:56 पी एम
Moonsetचन्द्रास्त - 10:49 ए एम

पात्रो

तिथि - कृष्ण पक्ष
Krishna Panchamiपञ्चमी - 02:30 ए एम, अक्टोबर 31 सम्म
Krishna Shashthiषष्ठी
नक्षत्र
Mrigashirshaमॄगशिरा - 01:39 पी एम सम्म
Ardraआर्द्रा
योग
शिव - 11:51 पी एम सम्म
सिद्ध
करण
कौलव - 03:26 पी एम सम्म
तैतिल - 02:30 ए एम, अक्टोबर 31 सम्म
गर
हप्ताको दिन
बुधवार

चन्द्र माह र सम्वत

चन्द्र माह
कार्तिक - पूर्णिमान्त
असोज - अमान्त
सम्वत
शक सम्वत - 1834 परिधावी
विक्रम सम्वत - 1969 रक्ताक्षी
गुजराती सम्वत - 1968 रुधिरोद्गारी

राशि र नक्षत्र

सूर्य राशि - सुर्य राशि
Tulaतुला
चन्द्र राशि - चन्द्र राशि
Mithunaमिथुन
सूर्य नक्षत्र
Swatiस्वाती
नक्षत्र पद
Third Nakshatra Padaमॄगशिरा - 07:55 ए एम सम्म
Fourth Nakshatra Padaमॄगशिरा - 01:39 पी एम सम्म
First Nakshatra Padaआर्द्रा - 07:23 पी एम सम्म
Second Nakshatra Padaआर्द्रा - 01:05 ए एम, अक्टोबर 31 सम्म
Third Nakshatra Padaआर्द्रा

ऋतु र अयन

द्रिक ऋतु
Sharadशरद
द्रिक अयन
दक्षिणायण
वैदिक ऋतु
Sharadशरद
वैदिक अयन
दक्षिणायण
दिनमान
11 घण्टा 06 मिनेट 43 सेकेन्ड
रात्रिमान
12 घण्टा 53 मिनेट 58 सेकेन्ड
मध्याह्न
12:05 पी एम

शुभ समय

अभिजित मुहूर्त
कुनै नहीं
अमृत काल
02:57 ए एम, अक्टोबर 31 बाट 04:28 ए एम, अक्टोबर 31
सर्वार्थ सिद्धि योग
06:31 ए एम बाट 01:39 पी एम
विजय मुहूर्त
01:56 पी एम बाट 02:40 पी एम
गोधूलि मुहूर्त
05:27 पी एम बाट 05:51 पी एम
सायाह्न सन्ध्या
05:38 पी एम बाट 06:55 पी एम
निशिता मुहूर्त
11:39 पी एम बाट 12:31 ए एम, अक्टोबर 31
ब्रह्म मुहूर्त
04:49 ए एम, अक्टोबर 31 बाट 05:40 ए एम, अक्टोबर 31
प्रातः सन्ध्या
05:15 ए एम, अक्टोबर 31 बाट 06:32 ए एम, अक्टोबर 31

अशुभ समय

राहुकाल
12:05 पी एम बाट 01:28 पी एम
गुलिक काल
10:41 ए एम बाट 12:05 पी एम
यमगण्ड
07:55 ए एम बाट 09:18 ए एम
दुर्मुहूर्त
11:42 ए एम बाट 12:27 पी एम
वर्ज्य
09:38 पी एम बाट 11:09 पी एम

आनन्दादि र तमिल योग

आनन्दादि योग
Auspiciousअमृत - 01:39 पी एम सम्म
Inauspiciousमुसल
तमिल योग
अमृत - 01:39 पी एम सम्म
मरण

निवास र शूल

होमाहुति
मंगल - 01:39 पी एम सम्म
बृहस्पति
दिशा शूल
उत्तर
राहु वास
दक्षिण-पश्चिम
अग्निवास
आकाश - 02:30 ए एम, अक्टोबर 31 सम्म
पाताल
चन्द्र वास
पश्चिम

चन्द्रबलम

निम्न राशि को लागि उत्तम चन्द्रबलम अर्को दिन सूर्योदय सम्म
Meshaमेष
Mithunaमिथुन
Simhaसिंह
Kanyaकन्या
Dhanuधनु
Makaraमकर
*वृश्चिक राशि मा जन्मिएका लोगोको लागि अष्टम चन्द्र

ताराबलम

निम्न राशि को लागि उत्तम ताराबलम 01:39 पी एम सम्म
Bharaniभरणी
Rohiniरोहिणी
Ardraआर्द्रा
Punarvasuपुनर्वसु
Ashleshaअश्लेशा
Purva Phalguniपूर्वाफाल्गुनी
Hastaहस्त
Swatiस्वाती
Vishakhaविशाखा
Jyeshthaज्येष्ठा
Purva Ashadhaपूर्वाषाढा
Shravanaश्रवण
Shatabhishaशतभिषा
Purva Bhadrapadaपूर्व भाद्रपद
Revatiरेवती

निम्न राशि को लागि उत्तम ताराबलम अर्को दिन सूर्योदय सम्म
Ashwiniअश्विनी
Krittikaकृत्तिका
Mrigashirshaमॄगशिरा
Punarvasuपुनर्वसु
Pushyaपुष्य
Maghaमघा
Uttara Phalguniउत्तराफाल्गुनी
Chitraचित्रा
Vishakhaविशाखा
Anuradhaअनुराधा
Mulaमूल
Uttara Ashadhaउत्तराषाढा
Dhanishthaधनिष्ठा
Purva Bhadrapadaपूर्व भाद्रपद
Uttara Bhadrapadaउत्तर भाद्रपद

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं। आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

Kalash
कपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सबै चित्रहरु अनि डाटा - कपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
गोपनीयता नीति
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation