☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingThemeआधुनिक थीम चुनें
Clock
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

मास पञ्चाङ्ग Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

सोमवार, नवम्बर 9, 1744

Google Calendar
गूगल कैलेण्डर में पञ्चाङ्ग भेजें
पञ्चाङ्ग में आयोजन जोड़ें
पञ्चाङ्ग की आई.सी.एस. फ़ाइल डाउनलोड करें
ICS File Download Icon

सूर्योदय06:39 ए एम

सूर्यास्त04:43 पी एम

चन्द्रोदय11:54 ए एम

चन्द्रास्त08:42 पी एम

शक सम्वत1666 रक्ताक्ष

विक्रम सम्वत1801 भाव

गुजराती सम्वत1801 धाता

अमान्त महीनाकार्तिक

पूर्णिमान्त महीनाकार्तिक

वारसोमवार

पक्षशुक्ल पक्ष

तिथिपञ्चमी - 08:35 ए एम तक

नक्षत्रपूर्वाषाढा - 07:26 ए एम तक

योगशूल - 06:37 पी एम तक

करणबालव - 08:35 ए एम तक

द्वितीय करणकौलव - 09:30 पी एम तक

सूर्य राशितुला

चन्द्र राशिधनु - 02:00 पी एम तक

राहुकाल07:54 ए एम से 09:10 ए एम

गुलिक काल12:57 पी एम से 02:12 पी एम

यमगण्ड10:25 ए एम से 11:41 ए एम

अभिजित मुहूर्त11:21 ए एम से 12:01 पी एम

दुर्मुहूर्त12:01 पी एम से 12:41 पी एम

दुर्मुहूर्त02:02 पी एम से 02:42 पी एम

अमृत काल02:50 ए एम, नवम्बर 10 से 04:35 ए एम, नवम्बर 10

वर्ज्य04:15 पी एम से 06:01 पी एम

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

नवम्बर 1744
कार्तिक - मार्गशीर्ष 1801
Tithi Icon
20, कार्तिक
शुक्ल पक्ष, पञ्चमी
1801 भाव, विक्रम सम्वत
Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
09
नवम्बर 1744
सोमवार
Sun
रवि
Mon
सोम
Tue
मंगल
Wed
बुध
Thu
गुरू
Fri
शुक्र
Sat
शनि
Sunrise
06:29
1
रवि
12Sunset
16:52
द्वादशी कृष्ण
Moonकन्या
Starउ फाल्गुनी 07:18
Festival
प्रदोष व्रत
धनतेरस
Sunrise
06:30
2
सोम
13Sunset
16:51
त्रयोदशी कृष्ण
Moonकन्या 17:17
Starचित्रा 28:44+
Festival
Sunrise
06:31
3
मंगल
14Sunset
16:50
चतुर्दशी कृष्ण
Moonतुला
Starस्वाती 27:53+
Festival
लक्ष्मी पूजा
Sunrise
06:33
4
बुध
15Sunset
16:49
अमावस्या कृष्ण
Moonतुला 21:31
Starविशाखा 27:28+
Festival
Amavasyaगोवर्धन पूजा
Sunrise
06:34
5
गुरु
16,17Sunset
16:47
प्रतिपदा शुक्ल
Moonवृश्चिक
Starअनुराधा 27:33+
Festival
भैया दूज
Sunrise
06:35
6
शुक्र
18Sunset
16:46
तृतीया शुक्ल
Moonवृश्चिक 28:14+
Starज्येष्ठा 28:14+
Festival
Sunrise
06:36
7
शनि
19Sunset
16:45
चतुर्थी शुक्ल
Moonधनु
Starमूल 29:32+
Sunrise
06:37
8
रवि
19Sunset
16:44
चतुर्थी शुक्ल
Moonधनु
Starपू आषाढ़
Sunrise
06:39
9
सोम
20Sunset
16:43
पञ्चमी शुक्ल
Moonधनु 14:00
Starपू आषाढ़ 07:26
Festival
Sunrise
06:40
10
मंगल
21Sunset
16:42
षष्ठी शुक्ल
Moonमकर
Starउ आषाढ़ 09:53
Festival
छठ पूजा
Sunrise
06:41
11
बुध
22Sunset
16:41
सप्तमी शुक्ल
Moonमकर 26:11+
Starश्रवण 12:42
Sunrise
06:42
12
गुरु
23Sunset
16:40
अष्टमी शुक्ल
Moonकुम्भ
Starधनिष्ठा 15:41
Festival
वृश्चिक संक्रान्ति
Sunrise
06:43
13
शुक्र
24Sunset
16:39
नवमी शुक्ल
Moonकुम्भ
Starशतभिषा 18:37
Festival
Sunrise
06:45
14
शनि
25Sunset
16:39
दशमी शुक्ल
Moonकुम्भ 14:38
Starपू भाद्रपद 21:15
Festival
Sunrise
06:46
15
रवि
26Sunset
16:38
एकादशी शुक्ल
Moonमीन
Starउ भाद्रपद 23:24
Festival
देवुत्थान एकादशी
देवुत्थान एकादशी
भीष्म पञ्चक प्रारम्भ
Sunrise
06:47
16
सोम
27Sunset
16:37
द्वादशी शुक्ल
Moonमीन 24:57+
Starरेवती 24:57+
Festival
Sunrise
06:48
17
मंगल
28Sunset
16:36
त्रयोदशी शुक्ल
Moonमेष
Starअश्विनी 25:50+
Festival
प्रदोष व्रत
Sunrise
06:49
18
बुध
29Sunset
16:36
चतुर्दशी शुक्ल
Moonमेष
Starभरणी 26:03+
Festival
मणिकर्णिका स्नान
Sunrise
06:51
19
गुरु
30Sunset
16:35
पूर्णिमा शुक्ल
Moonमेष 08:01
Starकृत्तिका 25:41+
Festival
Purnima
Sunrise
06:52
20
शुक्र
1Sunset
16:34
प्रतिपदा कृष्ण
Moonवृषभ
Starरोहिणी 24:50+
Festival
Sunrise
06:53
21
शनि
2Sunset
16:34
द्वितीया कृष्ण
Moonवृषभ 12:15
Starमॄगशिरा 23:36
Sunrise
06:54
22
रवि
3Sunset
16:33
तृतीया कृष्ण
Moonमिथुन
Starआर्द्रा 22:07
Festival
गणाधिप संकष्टी चतुर्थी
Sunrise
06:55
23
सोम
4Sunset
16:32
चतुर्थी कृष्ण
Moonमिथुन 14:55
Starपुनर्वसु 20:30
Sunrise
06:56
24
मंगल
5Sunset
16:32
पञ्चमी कृष्ण
Moonकर्क
Starपुष्य 18:53
Sunrise
06:58
25
बुध
6Sunset
16:31
षष्ठी कृष्ण
Moonकर्क 17:19
Starअश्लेशा 17:19
Sunrise
06:59
26
गुरु
7,8Sunset
16:31
सप्तमी कृष्ण
Moonसिंह
Starमघा 15:53
Festival
Sunrise
07:00
27
शुक्र
9Sunset
16:30
नवमी कृष्ण
Moonसिंह 20:21
Starपू फाल्गुनी 14:38
Sunrise
07:01
28
शनि
10Sunset
16:30
दशमी कृष्ण
Moonकन्या
Starउ फाल्गुनी 13:35
Sunrise
07:02
29
रवि
11Sunset
16:30
एकादशी कृष्ण
Moonकन्या 24:25+
Starहस्त 12:45
Festival
उत्पन्ना एकादशी
Sunrise
07:03
30
सोम
12Sunset
16:29
द्वादशी कृष्ण
Moonतुला
Starचित्रा 12:10
Sunrise
07:04
1
मंगल
13Sunset
16:29
त्रयोदशी कृष्ण
Moonतुला 29:48+
Starस्वाती 11:51
Festival
प्रदोष व्रत
Sunrise
07:05
2
बुध
14Sunset
16:29
चतुर्दशी कृष्ण
Moonवृश्चिक
Starविशाखा 11:50
Sunrise
07:06
3
गुरु
15Sunset
16:29
अमावस्या कृष्ण
Moonवृश्चिक
Starअनुराधा 12:11
Festival
Amavasya
Sunrise
07:07
4
शुक्र
16Sunset
16:29
प्रतिपदा शुक्ल
Moonवृश्चिक 12:57
Starज्येष्ठा 12:57
Festival
Sunrise
07:08
5
शनि
17Sunset
16:29
द्वितीया शुक्ल
Moonधनु
Starमूल 14:12
Festival
नवम्बर 1744 त्यौहार
कार्तिक - मार्गशीर्ष 1801
02
सोमवार
05
बृहस्पतिवार
06
शुक्रवार
09
सोमवार
10
मंगलवार
13
शुक्रवार
14
शनिवार
15
रविवार
भीष्म पञ्चक प्रारम्भ, देवुत्थान एकादशी
17
मंगलवार
18
बुधवार
मणिकर्णिका स्नान
20
शुक्रवार
26
बृहस्पतिवार

हिन्दु कैलेण्डर

हिन्दु कैलेण्डर में दिन स्थानीय सूर्योदय के साथ शुरू होता है और अगले दिन स्थानीय सूर्योदय के साथ समाप्त होता है। क्योंकि सूर्योदय का समय सभी शहरों के लिए अलग है, इसीलिए हिन्दु कैलेण्डर जो एक शहर के लिए बना है वो किसी अन्य शहर के लिए मान्य नहीं है। इसलिए स्थान आधारित हिन्दु कैलेण्डर, जैसे की द्रिकपञ्चाङ्ग डोट कॉम, का उपयोग महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, प्रत्येक हिन्दु दिन में पांच तत्व या अंग होते हैं। इन पांच अँगों का नाम निम्नलिखित है -

  1. तिथि
  2. नक्षत्र
  3. योग
  4. करण
  5. वार (सप्ताह के सात दिनों के नाम)

पञ्चाङ्ग

हिन्दु कैलेण्डर के सभी पांच तत्वों को साथ में पञ्चाङ्ग कहते हैं। (संस्कृत में: पञ्चाङ्ग = पंच (पांच) + अंग (हिस्सा)). इसलिए हिन्दु कैलेण्डर जो सभी पांच अँगों को दर्शाता है उसे पञ्चाङ्ग कहते हैं। दक्षिण भारत में पञ्चाङ्ग को पञ्चाङ्गम कहते हैं।

भारतीय कैलेण्डर

जब हिन्दु कैलेण्डर में मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन त्योहार और राष्ट्रीय छुट्टियां शामिल हों तो वह भारतीय कैलेण्डर के रूप में जाना जाता है।

चन्द्र माह के नाम

  1. चैत्र
  2. वैशाख
  3. ज्येष्ठ
  4. आषाढ़
  5. श्रावण
  6. भाद्रपद
  7. आश्विन
  8. कार्तिक
  9. मार्गशीर्ष
  10. पौष
  11. माघ
  12. फाल्गुन

नक्षत्र के नाम

  1. अश्विनी
  2. भरणी
  3. कृत्तिका
  4. रोहिणी
  5. मॄगशिरा
  6. आर्द्रा
  7. पुनर्वसु
  8. पुष्य
  9. अश्लेशा
  10. मघा
  11. पूर्वाफाल्गुनी
  12. उत्तराफाल्गुनी
  13. हस्त
  14. चित्रा
  15. स्वाती
  16. विशाखा
  17. अनुराधा
  18. ज्येष्ठा
  19. मूल
  20. पूर्वाषाढा
  21. उत्तराषाढा
  22. श्रवण
  23. धनिष्ठा
  24. शतभिषा
  25. पूर्व भाद्रपद
  26. उत्तर भाद्रपद
  27. रेवती

योग के नाम

  1. विष्कम्भ
  2. प्रीति
  3. आयुष्मान्
  4. सौभाग्य
  5. शोभन
  6. अतिगण्ड
  7. सुकर्मा
  8. धृति
  9. शूल
  10. गण्ड
  11. वृद्धि
  12. ध्रुव
  13. व्याघात
  14. हर्षण
  15. वज्र
  16. सिद्धि
  17. व्यतीपात
  18. वरीयान्
  19. परिघ
  20. शिव
  21. सिद्ध
  22. साध्य
  23. शुभ
  24. शुक्ल
  25. ब्रह्म
  26. इन्द्र
  27. वैधृति

करण के नाम

  1. किंस्तुघ्न
  2. बव
  3. बालव
  4. कौलव
  5. तैतिल
  6. गर
  7. वणिज
  8. विष्टि
  9. शकुनि
  10. चतुष्पाद
  11. नाग

तिथि के नाम

  1. प्रतिपदा
  2. द्वितीया
  3. तृतीया
  4. चतुर्थी
  5. पञ्चमी
  6. षष्ठी
  7. सप्तमी
  8. अष्टमी
  9. नवमी
  10. दशमी
  11. एकादशी
  12. द्वादशी
  13. त्रयोदशी
  14. चतुर्दशी
  15. पूर्णिमा
  16. अमावस्या

राशि के नाम

  1. मेष
  2. वृषभ
  3. मिथुन
  4. कर्क
  5. सिंह
  6. कन्या
  7. तुला
  8. वृश्चिक
  9. धनु
  10. मकर
  11. कुम्भ
  12. मीन

आनन्दादि योग के नाम

  1. आनन्द
    सिद्धि
  2. कालदण्ड
    मृत्यु
  3. धुम्र
    असुख
  4. धाता/प्रजापति
    सौभाग्य
  5. सौम्य
    बहुसुख
  6. ध्वांक्ष
    धनक्षय
  7. केतु/ध्वज
    सौभाग्य
  8. श्रीवत्स
    सौख्यसम्पत्ति
  9. वज्र
    क्षय
  10. मुद्गर
    लक्ष्मीक्षय
  11. छत्र
    राजसन्मान
  12. मित्र
    पुष्टि
  13. मानस
    सौभाग्य
  14. पद्म
    धनागम
  15. लुम्बक
    धनक्षय
  16. उत्पात
    प्राणनाश
  17. मृत्यु
    मृत्यु
  18. काण
    क्लेश
  19. सिद्धि
    कार्यसिद्धि
  20. शुभ
    कल्याण
  21. अमृत
    राजसन्मान
  22. मुसल
    धनक्षय
  23. गद
    भय
  24. मातङ्ग
    कुलवृद्धि
  25. राक्षस
    महाकष्ट
  26. चर
    कार्यसिद्धि
  27. स्थिर
    गृहारम्भ
  28. वर्धमान
    विवाह

सम्वत्सर के नाम

  1. प्रभव
  2. विभव
  3. शुक्ल
  4. प्रमोद
  5. प्रजापति
  6. अङ्गिरा
  7. श्रीमुख
  8. भाव
  9. युवा
  10. धाता
  11. ईश्वर
  12. बहुधान्य
  13. प्रमाथी
  14. विक्रम
  15. वृष
  16. चित्रभानु
  17. सुभानु
  18. तारण
  19. पार्थिव
  20. व्यय
  21. सर्वजित्
  22. सर्वधारी
  23. विरोधी
  24. विकृति
  25. खर
  26. नन्दन
  27. विजय
  28. जय
  29. मन्मथ
  30. दुर्मुख
  31. हेमलम्बी
  32. विलम्बी
  33. विकारी
  34. शर्वरी
  35. प्लव
  36. शुभकृत्
  37. शोभकृत्
  38. क्रोधी
  39. विश्वावसु
  40. पराभव
  41. प्लवङ्ग
  42. कीलक
  43. सौम्य
  44. साधारण
  45. विरोधकृत्
  46. परिधावी
  47. प्रमादी
  48. आनन्द
  49. राक्षस
  50. नल
  51. पिङ्गल
  52. कालयुक्त
  53. सिद्धार्थी
  54. रौद्र
  55. दुर्मति
  56. दुन्दुभी
  57. रुधिरोद्गारी
  58. रक्ताक्ष
  59. क्रोधन
  60. क्षय
Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation