☰
Search
Mic
हि
Android Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2024 कुम्भ संक्रान्ति पुण्य काल समय एशबर्न, Virginia, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2024 कुम्भ संक्रान्ति

X
Rotate
Toolbar
वर्ष
2024
वर्ष बदलें
Sankrantiसायन संक्रान्ति चुनें
एशबर्न, संयुक्त राज्य अमेरिका
कुम्भ संक्रान्ति
13वाँ
फरवरी 2024
Tuesday / मंगलवार
कुम्भ संक्रान्ति त्रिवेणी स्नान
Kumbha Sankranti

कुम्भ संक्रान्ति पुण्य काल मुहूर्त

कुम्भ संक्रान्ति मंगलवार, फरवरी 13, 2024 को
कुम्भ संक्रान्ति पुण्य काल - 07:04 ए एम से 12:24 पी एम
अवधि - 05 घण्टे 20 मिनट्स
कुम्भ संक्रान्ति महा पुण्य काल - 07:04 ए एम से 08:51 ए एम
अवधि - 01 घण्टा 47 मिनट्स
कुम्भ संक्रान्ति का क्षण - 05:24 ए एम
कुम्भ संक्रान्ति फलम्

कुम्भ संक्रान्ति फलम्

  • सरकारों और सरकारी कर्मचारियों के लिए यह संक्रान्ति अच्छी है।
  • वस्तुओं की लागत सामान्य होगी।
  • भय और चिन्ता लाती है।
  • लोगों को स्वास्थ्य लाभ होगा, राष्ट्रों के बीच सम्बन्ध मधुर होंगे और अनाज भण्डारण में वृद्धि होगी।
कुम्भ संक्रान्ति मुहूर्त

कुम्भ संक्रान्ति मुहूर्त

संक्रान्ति करण: बव
संक्रान्ति दिन: Monday / सोमवार
संक्रान्ति अवलोकन दिनाँक: फरवरी 13, 2024
संक्रान्ति गोचर दिनाँक: फरवरी 13, 2024
संक्रान्ति का समय: 05:24 ए एम, फरवरी 13
संक्रान्ति घटी: 56 (रात्रिमान)
संक्रान्ति चन्द्रराशि: मीन Meena
संक्रान्ति नक्षत्र: रेवती (मैत्र संज्ञक) Revati
बव करण संक्रान्ति के साथ वाहन सिंह पर सवार
Sankranti Phalam

संक्रान्ति गुण
फलम् संकेत
नाम
ध्वाङ्क्षी
वार मुख
पश्चिम
दृष्टि
ईशान
गमन
उत्तर
वाहन
सिंह
उपवाहन
गज
वस्त्र
श्वेत
आयुध
भुशुण्डी
भक्ष्य पदार्थ
अन्न
गन्ध द्रव्य
कस्तूरी
वर्ण
देवता
पुष्प
नाग्केश्वर
वय
शिशु
अवस्था
पन्थ्
करण मुख
पूर्व
स्थिति
बैठी
भोजन पात्र
सुवर्ण
आभूषण
नुपुर
कन्चुकी
विचित्र

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में एशबर्न, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2024 कुम्भ संक्रान्ति

कुम्भ संक्रान्ति, हिन्दु सौर कैलेण्डर में ग्यारहवें माह के आरम्भ का प्रतीक है। वर्ष की सभी बारह संक्रान्तियाँ, दान-पुण्य आदि कार्यों हेतु अत्यधिक शुभ होती हैं। प्रत्येक संक्रान्ति के समय से पूर्व अथवा उपरान्त की एक निश्चित समयावधि ही संक्रान्ति से सम्बन्धित गतिविधियों के लिये विशेष शुभ मानी जाती है।

कुम्भ संक्रान्ति के समय, संक्रान्ति क्षण से पूर्व सोलह घटी की समयावधि को अत्यन्त शुभ माना जाता है तथा संक्रान्ति से सोलह घटी पूर्व से लेकर संक्रान्ति काल तक का समय समस्त प्रकार की दान-पुण्य आदि क्रिया-कलापों हेतु स्वीकार किया जाता है।

कुम्भ संक्रान्ति काल में गायों को चारा देना अत्यन्त शुभ फलदायी माना जाता है। इसके अतिरिक्त गङ्गा स्नान तथा विशेष रूप से गङ्गा तथा यमुना के संगम स्थल, त्रिवेणी में स्नान करना सर्वाधिक शुभ माना जाता है।

दक्षिण भारत में संक्रान्ति को सङ्क्रमण कहा जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation