☰
Search
Mic
हि
Android Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2025 मेष संक्रान्ति फलम् सान दिएगो, California, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2025 मेष संक्रान्ति

मेष संक्रान्ति फलम्

मेष संक्रान्ति फलम्

  • चोरों के लिए यह संक्रान्ति अच्छी है।
  • वस्तुओं की लागत महँगी होगी।
  • अति कष्टपूर्ण समय लाती है।
  • लोग खांसी और ठण्ड से पीड़ित होंगे, राष्ट्रों के बीच संघर्ष होगा और बारिश के अभाव में अकाल की सम्भावना बनेगी।
मेष संक्रान्ति मुहूर्त

मेष संक्रान्ति मुहूर्त

संक्रान्ति करण: कौलव
संक्रान्ति दिन: Sunday / रविवार
संक्रान्ति अवलोकन दिनाँक: अप्रैल 13, 2025
संक्रान्ति गोचर दिनाँक: अप्रैल 13, 2025
संक्रान्ति का समय: 03:00 पी एम, अप्रैल 13
संक्रान्ति घटी: 21 (दिनमान)
संक्रान्ति चन्द्रराशि: तुला Tula
संक्रान्ति नक्षत्र: स्वाती (चर संज्ञक) Swati
कौलव करण संक्रान्ति के साथ वाहन वराह पर सवार
Sankranti Phalam

संक्रान्ति गुण
फलम् संकेत
नाम
घोर
वार मुख
पूर्व
दृष्टि
नैऋत्य
गमन
पूर्व
वाहन
वराह
उपवाहन
वृषभ
वस्त्र
नीला
आयुध
खड्ग
भक्ष्य पदार्थ
भिक्षा
गन्ध द्रव्य
सुर्ख चन्दन
वर्ण
सर्प
पुष्प
बकुला
वय
गतालक
अवस्था
रति
करण मुख
पश्चिम
स्थिति
खड़ी
भोजन पात्र
ताम्र
आभूषण
मोती
कन्चुकी
भूर्ज पत्र

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में सान दिएगो, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

संक्रान्ति फलम्

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रह द्वारा राशिचक्र में भ्रमण करते हुये एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करनी की घटना को संक्रान्ति कहा जाता है। एक सौर वर्ष में बारह संक्रान्ति होती हैं।

वैदिक ज्योतिष में संक्रान्ति के स्वरूप का वर्णन किया गया है। वैदिक ज्योतिष में संक्रान्ति 60 योजन (लगभग 432 किमी) चौड़ी और लम्बी होती है। संक्रान्ति को एक मुख, लम्बी नासिका, चौड़े होंठ तथा नौ भुजाओं वाले एक पुरुष के रूप में वर्णित किया जाता है। यह आगे की दिशा में गति करता है, किन्तु पीछे की ओर देखता रहता है। संक्रान्ति एक हाथ में नारियल का खोल पकड़कर घूर्णन करता रहता है।

हिन्दु मान्यताओं के अनुसार, उपरोक्त अवतार अशुभ लगता है। इसीलिये संक्रान्ति शुभ कार्यों के लिये निषिद्ध मानी जाती है। हालाँकि, संक्रान्ति की अवधि दान, तपस्या एवं श्राद्ध अनुष्ठानों के लिये अत्यधिक महत्वपूर्ण मानी जाती है। संक्रान्ति के दौरान लोग निर्धनों एवं सुपात्रों को दान देते हैं, पवित्र नदियों में स्नान करते हैं तथा पूर्वजों के निमित्त श्राद्ध आदि कर्म करते हैं।

वैदिक ज्योतिष, पञ्चाङ्ग के आधार पर प्रत्येक संक्रान्ति की विशेषताओं का वर्णन भी करता है। ये विशेषतायें महीने में आने वाली घटनाओं का संकेत देती हैं। माना जाता है कि जो भी वस्तुयें संक्रान्ति से प्रभावित होती हैं, उनका अशुभ समय आरम्भ हो जाता है। जैसे यदि संक्रान्ति स्वर्ण से सुसज्जित हो तो आने वाला माह स्वर्ण आदि का व्यापार करने वालों के लिये अच्छा नहीं है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation