☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

1710 वृषभ संक्रान्ति पुण्य काल समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिए

DeepakDeepak
लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
1710 वृषभ संक्रान्ति
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
वर्ष
1710
वर्ष बदलें
T
वर्तमान वर्ष
देवनागरी अंक सेट करें
Sankranti
निरयण संक्रान्ति
Theme
आधुनिक थीम चुनें
नई दिल्ली, भारत
वृषभ संक्रान्ति
11वाँ
मई 1710
Sunday / रविवार
वृषभ संक्रान्ति
Vrishabha Sankranti
वृषभ संक्रान्ति पुण्य काल मुहूर्त

वृषभ संक्रान्ति पुण्य काल मुहूर्त

वृषभ संक्रान्ति रविवार, मई 11, 1710 को
वृषभ संक्रान्ति पुण्य काल - 05:56 ए एम से 06:44 ए एम
अवधि - 00 घण्टे 47 मिनट्स
वृषभ संक्रान्ति महा पुण्य काल - 05:56 ए एम से 06:44 ए एम
अवधि - 00 घण्टे 47 मिनट्स
वृषभ संक्रान्ति का क्षण - 06:44 ए एम
वृषभ संक्रान्ति फलम्

वृषभ संक्रान्ति फलम्

  • सरकारों और सरकारी कर्मचारियों के लिए यह संक्रान्ति अच्छी है।
  • वस्तुओं की लागत सस्ती होगी।
  • प्रावधानों की प्रचुर आपूर्ति लाती है।
  • लोग खांसी और ठण्ड से पीड़ित होंगे, राष्ट्रों के बीच संघर्ष होगा और बारिश के अभाव में अकाल की सम्भावना बनेगी।
वृषभ संक्रान्ति मुहूर्त

वृषभ संक्रान्ति मुहूर्त

संक्रान्ति करण: तैतिल
संक्रान्ति दिन: Sunday / रविवार
संक्रान्ति अवलोकन दिनाँक: मई 11, 1710
संक्रान्ति गोचर दिनाँक: मई 11, 1710
संक्रान्ति का समय: 06:44 ए एम, मई 11
संक्रान्ति घटी: 2 (दिनमान)
संक्रान्ति चन्द्रराशि: तुला Tula
संक्रान्ति नक्षत्र: चित्रा (मैत्र संज्ञक) Chitra
तैतिल करण संक्रान्ति के साथ वाहन गर्दभ पर सवार
Sankranti Phalam

संक्रान्ति गुण
फलम् संकेत
नाम
घोर
वार मुख
पूर्व
दृष्टि
नैऋत्य
गमन
पूर्व
वाहन
गर्दभ
उपवाहन
मेष
वस्त्र
गुलाबी
आयुध
दण्ड
भक्ष्य पदार्थ
पकवान
गन्ध द्रव्य
मिट्टी
वर्ण
पक्षी
पुष्प
केतकी
वय
युवा
अवस्था
हास्य
करण मुख
उत्तर
स्थिति
सोती
भोजन पात्र
काँसा
आभूषण
मूँग
कन्चुकी
श्वेत

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1710 वृषभ संक्रान्ति

Vrishabha Sankranti marks the beginning of the second month in Hindu Solar Calendar. All twelve Sankranti(s) in the year are highly auspicious for Dan-Punya activities. Only certain time duration before or after each Sankranti moment is considered auspicious for Sankranti related activities.

For Vrishabha Sankranti sixteen Ghatis before the Sankranti moment are considered Shubh and the time window of sixteen Ghati before Sankranti to Sankranti is taken for all Dan-Punya activities.

During Vrishabha Sankranti gifting cow also known as Godan is considered highly auspicious.

Currently Vrishabha Sankranti falls on 14th May or on 15th May. In South India Sankranti is called as Sankramanam.

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation