☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingThemeआधुनिक थीम चुनें
Clock

2206 पितृ पक्ष के दौरान चतुर्दशी श्राद्ध तिथि Fairfield, Connecticut, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए

DeepakDeepak

2206 चतुर्दशी श्राद्ध

Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका
चतुर्दशी श्राद्ध
1वाँ
अक्टूबर 2206
Wednesday / बुधवार
चतुर्दशी श्राद्ध
Shraddha

श्राद्ध अनुष्ठान समय

चतुर्दशी श्राद्ध बुधवार, अक्टूबर 1, 2206 को
कुतुप मूहूर्त - 12:19 पी एम से 01:06 पी एम
अवधि - 00 घण्टे 47 मिनट्स
रौहिण मूहूर्त - 01:06 पी एम से 01:53 पी एम
अवधि - 00 घण्टे 47 मिनट्स
अपराह्न काल - 01:53 पी एम से 04:15 पी एम
अवधि - 02 घण्टे 21 मिनट्स
चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ - अक्टूबर 01, 2206 को 09:59 ए एम बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त - अक्टूबर 02, 2206 को 06:46 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में Fairfield, संयुक्त राज्य अमेरिका के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2206 चतुर्दशी श्राद्ध

चतुर्दशी श्राद्ध तिथि केवल उन मृतकों के श्राद्ध के लिये उपयुक्त है, जिनकी मृत्यु किन्हीं विशेष परिस्थितियों में हुई हो, जैसे किसी हथियार द्वारा मृत्यु, दुर्घटना में मृत्यु, आत्महत्या अथवा किसी अन्य द्वारा हत्या। इनके अतिरिक्त चतुर्दशी तिथि पर किसी अन्य का श्राद्ध नहीं किया जाता है, अपितु इनके अतिरिक्त चतुर्दशी पर होने वाले अन्य श्राद्ध अमावस्या तिथि पर किये जाते हैं।

चतुर्दशी श्राद्ध को घट चतुर्दशी श्राद्ध, घायल चतुर्दशी श्राद्ध तथा चौदस श्राद्ध के नाम से भी जाना जाता है।

पितृ पक्ष श्राद्ध पार्वण श्राद्ध होते हैं। इन श्राद्धों को सम्पन्न करने के लिए कुतुप, रौहिण आदि मुहूर्त शुभ मुहूर्त माने गये हैं। अपराह्न काल समाप्त होने तक श्राद्ध सम्बन्धी अनुष्ठान सम्पन्न कर लेने चाहिये। श्राद्ध के अन्त में तर्पण किया जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation