☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
कोविड-19 महामारी
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak1911 श्री सत्यनारायण पूजा और कथा के दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें

1911 श्री सत्यनारायण पूजा और कथा के दिन

Satyanarayan Puja Dates

श्री सत्यनारायण की पूजा भगवान नारायण का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए की जाती है। श्री नारायण भगवान विष्णु का ही एक रूप हैं। भगवान विष्णु को इस रूप में सत्य का अवतार माना जाता है। सत्यनारायण की पूजा को करने का कोई दिन तय नहीं है और श्रद्धालु इसे किसी भी दिन कर सकते हैं लेकिन पूर्णिमा के दिन इसे करना अत्यन्त शुभ माना जाता है।

श्रद्धालुओं को पूजा के दिन उपवास करना चाहिए। पूजा प्रातःकाल व सन्ध्याकाल के समय की जा सकती है। सत्यनारायण की पूजा करने का समय सन्ध्याकाल ज्यादा उपयुक्त है जिससे उपवासी पूजा के बाद प्रसाद से अपना व्रत तोड़ सकते हैं।

द्रिक पञ्चाङ्ग सन्ध्याकाल के लिए श्री सत्यनरायण पूजा के दिनों को सूचीबद्ध करता है। इसीलिए दिये गए सत्यनारायण पूजा के दिन चतुर्दशी अर्थात पूर्णिमा के एक दिन पहले भी आ सकते हैं। जो श्रद्धालु पूजा को प्रातःकाल में करना चाहते है उन्हें द्रिकपञ्चाङ्ग से सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि पूजा पूर्णिमा तिथि के अन्दर करी जाती है। पूर्णिमा के दिन, प्रातःकाल के दौरान तिथि समाप्त हो सकती है और इसी वजह से पूर्णिमा तिथि हर बार प्रातःकाल की पूजा के लिए उपयुक्त नहीं है।

1911 श्री सत्यनारायण पूजा के दिन
[1967 - 1968] विक्रम सम्वत
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
श्री सत्यनारायण व्रत
जनवरी 14, 1911, शनिवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
पौष, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 06:58 ए एम, जनवरी 14
समाप्त - 03:56 ए एम, जनवरी 15
श्री सत्यनारायण व्रत
फरवरी 13, 1911, सोमवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
माघ, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 06:04 पी एम, फरवरी 12
समाप्त - 04:07 पी एम, फरवरी 13
श्री सत्यनारायण व्रत
मार्च 14, 1911, मंगलवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
फाल्गुन, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 05:57 ए एम, मार्च 14
समाप्त - 05:28 ए एम, मार्च 15
श्री सत्यनारायण व्रत
अप्रैल 13, 1911, बृहस्पतिवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
चैत्र, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 07:06 पी एम, अप्रैल 12
समाप्त - 08:06 पी एम, अप्रैल 13
श्री सत्यनारायण व्रत
मई 12, 1911, शुक्रवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
वैशाख, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 09:34 ए एम, मई 12
समाप्त - 11:39 ए एम, मई 13
श्री सत्यनारायण व्रत
जून 11, 1911, रविवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
ज्येष्ठ, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 12:51 ए एम, जून 11
समाप्त - 03:20 ए एम, जून 12
श्री सत्यनारायण व्रत
जुलाई 11, 1911, मंगलवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
आषाढ़, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 04:13 पी एम, जुलाई 10
समाप्त - 06:23 पी एम, जुलाई 11
श्री सत्यनारायण व्रत
अगस्त 9, 1911, बुधवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
श्रावण, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 07:07 ए एम, अगस्त 09
समाप्त - 08:25 ए एम, अगस्त 10
श्री सत्यनारायण व्रत
सितम्बर 8, 1911, शुक्रवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
भाद्रपद, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 09:21 पी एम, सितम्बर 07
समाप्त - 09:26 पी एम, सितम्बर 08
श्री सत्यनारायण व्रत
अक्टूबर 7, 1911, शनिवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
आश्विन, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 10:54 ए एम, अक्टूबर 07
समाप्त - 09:41 ए एम, अक्टूबर 08
श्री सत्यनारायण व्रत
नवम्बर 6, 1911, सोमवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
कार्तिक, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 11:46 पी एम, नवम्बर 05
समाप्त - 09:18 पी एम, नवम्बर 06
श्री सत्यनारायण व्रत
दिसम्बर 5, 1911, मंगलवार
पूर्णिमा
शुक्ल पूर्णिमा
मार्गशीर्ष, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ - 11:49 ए एम, दिसम्बर 05
समाप्त - 08:22 ए एम, दिसम्बर 06

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

भगवान सत्यनारायण जो भगवान विष्णु के अत्यन्त हितैषी रूप है उनकी पूजा को मिलाकर पूजा के धार्मिक कृत्य बने होते हैं। पञ्चामृत (दूध, शहद, घी/मख्खन, दही और चीनी का मिश्रण) का उपयोग शालिग्राम जो कि महा विष्णु का पवित्र पत्थर है, को शुद्ध करने के लिए किया जाता है। पँजीरी जो कि मीठी और गेहूँ के भुने हुए आटे की होती है, केला और अन्य फलों को प्रसाद के रूप में उपयोग में लिया जाता है। तुलसी की पत्तियाँ भी प्रसाद में मिला दी जाती है जिससे प्रसाद और भी ज्यादा पवित्र हो जाता है।

पूजा की अन्य आवश्यकता पूजा की कहानी होती है जिसे कथा के रूप में भी जाना जाता है और यह कथा पूजा में शामिल श्रद्धालुओं और जो श्रद्धालु व्रत कर रहे हैं, उनके द्वारा सुनी जाती है। सत्यनारायण कथा में पूजा की उत्पत्ति, पूजा को करने के लाभ और किसी के द्वारा पूजा करने का भूलने से होने वाली संभावित दुर्घटनाओं की कहानी शामिल हैं।

पूजा की समाप्ती आरती के साथ होती है जिसमें भगवान की मूर्ति या छवि के आस-पास कर्पूर से ज्वलित छोटी सी ज्वाला को घुमाते हैं। आरती के बाद श्रद्धालु लोग पञ्चामृत और प्रसाद को ग्रहण करते हैं। व्रत करने वाले श्रद्धालु पञ्चामृत से व्रत को तोड़ने के बाद प्रसाद को ले सकते हैं।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation