☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Clock
दीवाली पूजा कैलेण्डर📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak2019 स्कन्द षष्ठी व्रत के दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, इण्डिया के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
षष्ठी

19 दिन शेष

स्कन्द षष्ठी
श्रावण, शुक्ल षष्ठी
नई दिल्ली, इण्डिया

05

अगस्त 2019
सोमवार

2019 स्कन्द षष्ठी | कन्द षष्ठी व्रतम

Skanda Shashti Dates

तमिल हिन्दुओं के बीच स्कन्द एक प्रसिद्ध देवता हैं। स्कन्द देव भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र और भगवान गणेश के छोटे भाई हैं। भगवान स्कन्द को मुरुगन, कार्तिकेय और सुब्रहमन्य के नाम से भी जाना जाता है।

षष्ठी तिथि भगवान स्कन्द को समर्पित हैं। शुक्ल पक्ष की षष्ठी के दिन श्रद्धालु लोग उपवास करते हैं। षष्ठी तिथि जिस दिन पञ्चमी तिथि के साथ मिल जाती है उस दिन स्कन्द षष्ठी के व्रत को करने के लिए प्राथमिकता दी गयी है। इसीलिए स्कन्द षष्ठी का व्रत पञ्चमी तिथि के दिन भी हो सकता है।

स्कन्द षष्ठी को कन्द षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है।

2019 स्कन्द षष्ठी व्रत के दिन
[2075 - 2076] विक्रम सम्वत
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
स्कन्द षष्ठी
जनवरी 12, 2019, शनिवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
पौष, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 07:54 पी एम, जनवरी 11
समाप्त - 10:05 पी एम, जनवरी 12
स्कन्द षष्ठी
फरवरी 10, 2019, रविवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
माघ, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 02:09 पी एम, फरवरी 10
समाप्त - 03:20 पी एम, फरवरी 11
स्कन्द षष्ठी
मार्च 12, 2019, मंगलवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
फाल्गुन, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 04:43 ए एम, मार्च 12
समाप्त - 04:50 ए एम, मार्च 13
स्कन्द षष्ठी
अप्रैल 10, 2019, बुधवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
चैत्र, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 03:36 पी एम, अप्रैल 10
समाप्त - 02:42 पी एम, अप्रैल 11
स्कन्द षष्ठी
मई 10, 2019, शुक्रवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
वैशाख, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 11:27 पी एम, मई 09
समाप्त - 09:41 पी एम, मई 10
स्कन्द षष्ठी
जून 8, 2019, शनिवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
ज्येष्ठ, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 05:17 ए एम, जून 08
समाप्त - 02:55 ए एम, जून 09
स्कन्द षष्ठी
जुलाई 7, 2019, रविवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
आषाढ़, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 10:19 ए एम, जुलाई 07
समाप्त - 07:42 ए एम, जुलाई 08
स्कन्द षष्ठी
अगस्त 5, 2019, सोमवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
श्रावण, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 03:55 पी एम, अगस्त 05
समाप्त - 01:30 पी एम, अगस्त 06
स्कन्द षष्ठी
सितम्बर 4, 2019, बुधवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
भाद्रपद, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 11:27 पी एम, सितम्बर 03
समाप्त - 09:44 पी एम, सितम्बर 04
स्कन्द षष्ठी
अक्टूबर 3, 2019, बृहस्पतिवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
आश्विन, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 10:12 ए एम, अक्टूबर 03
समाप्त - 09:35 ए एम, अक्टूबर 04
सूर सम्हारम
नवम्बर 2, 2019, शनिवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
कार्तिक, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 12:51 ए एम, नवम्बर 02
समाप्त - 01:31 ए एम, नवम्बर 03
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
मार्गशीर्ष, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 07:13 पी एम, दिसम्बर 01
समाप्त - 08:59 पी एम, दिसम्बर 02
स्कन्द षष्ठी
दिसम्बर 31, 2019, मंगलवार
षष्ठी
शुक्ल षष्ठी
पौष, शुक्ल षष्ठी
प्रारम्भ - 04:01 पी एम, दिसम्बर 31
समाप्त - 06:27 पी एम, जनवरी 01

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, इण्डिया के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

सूर्योदय और सूर्यास्त के मध्य में जब पञ्चमी तिथि समाप्त होती है या षष्ठी तिथि प्रारम्भ होती है तब यह दोनों तिथि आपस में संयुक्त हो जाती है और इस दिन को स्कन्द षष्ठी व्रत के लिए चुना जाता है। इस नियम का धरमसिन्धु और निर्णयसिन्धु में उल्लेख किया गया है। तिरुचेन्दुर में प्रसिद्ध श्री सुब्रहमन्य स्वामी देवस्थानम सहित तमिल नाडु में कई मुरुगन मन्दिर इसी नियम का अनुसरण करते हैं। अगर एक दिन पूर्व षष्ठी तिथि पञ्चमी तिथि के साथ संयुक्त हो जाती है तो सूरसम्हाराम का दिन षष्ठी तिथि से एक दिन पहले देखा जाता है

हालाँकि सभी षष्ठी तिथि भगवान मुरुगन को समर्पित है लेकिन कार्तिक चन्द्र मास (ऐप्पासी या कार्तिकाई सौर माह) के दौरान शुक्ल पक्ष की षष्ठी सबसे मुख्य होती है। श्रद्धालु इस दौरान छः दिन का उपवास करते हैं जो सूरसम्हाराम तक चलता है। सूरसम्हाराम के बाद अगला दिन तिरु कल्याणम के नाम से जाना जाता है।

सूरसम्हाराम के बाद आने वाली अगली स्कन्द षष्ठी को सुब्रहमन्य षष्ठी के नाम से जाना जाता है जिसे कुक्के सुब्रहमन्य षष्ठी भी कहते हैं और यह मार्गशीर्ष चन्द्र मास के दौरान पड़ती है।

भगवान मुरुगन के प्रसिद्ध मन्दिर

निम्नलिखित छः आवास जिसे आरुपदै विदु के नाम से जाना जाता है, इण्डिया के तमिल नाडु प्रदेश में भगवान मुरुगन के भक्तों के लिए बहुत ही मुख्य तीर्थस्थानों में से हैं।

  1. पलनी मुरुगन मन्दिर (कोयंबटूर से 100 किमी पूर्वी-दक्षिण में स्थित)
  2. स्वामीमलई मुरुगन मन्दिर (कुंभकोणम के पास)
  3. तिरुत्तनी मुरुगन मन्दिर (चेन्नई से 84 किमी)
  4. पज्हमुदिर्चोलाई मुरुगन मन्दिर (मदुरई से 10 किमी उत्तर में स्थित)
  5. श्री सुब्रहमन्य स्वामी देवस्थानम, तिरुचेन्दुर (तूतुकुडी से 40 किमी दक्षिण में स्थित)
  6. तिरुप्परनकुंद्रम मुरुगन मन्दिर (मदुरई से 10 किमी दक्षिण में स्थित)

मरुदमलै मुरुगन मन्दिर (कोयंबतूर का उपनगर) एक और प्रमुख तीर्थस्थान हैं।

इण्डिया के कर्णाटक प्रदेश में मंगलौर शहर के पास कुक्के सुब्रमण्या मन्दिर भी बहुत प्रसिद्ध तीर्थस्थान है जो भगवान मुरुगन को समर्पित हैं लेकिन यह भगवान मुरुगन के उन छः निवास स्थान का हिस्सा नहीं है जो तमिल नाडु में स्थित हैं।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation