☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
दीवाली पूजा कैलेण्डर📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak2020 भीष्म अष्टमी का दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, इण्डिया के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
2020 भीष्म अष्टमी का दिन
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
नई दिल्ली, इण्डिया
भीष्म अष्टमी
2वाँ
फरवरी 2020
Sunday / रविवार
भीष्म पितामह की पुण्यतिथि
Bhishma Ashtami
भीष्म अष्टमी समय

भीष्म अष्टमी समय

भीष्म अष्टमी रविवार, फरवरी 2, 2020 को
अष्टमी तिथि प्रारम्भ - फरवरी 01, 2020 को 06:10 पी एम बजे
अष्टमी तिथि समाप्त - फरवरी 02, 2020 को 08:03 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, इण्डिया के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2020 भीष्म अष्टमी

माघ शुक्ल अष्टमी, भीष्म पितामह की पुण्यतिथि है। भीष्म पितामह, महान भारतीय महाकाव्य, महाभारत के सबसे प्रमुख पात्रों में से एक हैं। इसलिये उनकी पुण्यतिथि को भीष्म अष्टमी के रूप में जाना जाता है। भीष्म पितामह ने आजीवन ब्रह्मचर्य की प्रतिज्ञा ली तथा जीवन पर्यन्त उसका पालन किया। अपने पिता के प्रति उनकी निष्ठा एवं समर्पण के कारण, भीष्म पितामह को अपनी इच्छानुसार मृत्यु का समय चुनने का वरदान प्राप्त हुआ था।

महाभारत के युद्ध में गम्भीर रूप से घायल होने के पश्चात् भी भीष्म पितामह ने अपने वरदान के कारण अपनी देह का त्याग नहीं किया। उन्होंने अपनी देह त्यागने के लिये शुभः मुहूर्त की प्रतीक्षा की। हिन्दु मान्यता के अनुसार, सूर्यदेव वर्ष में आधे समय दक्षिण दिशा में चले जाते हैं, जो कि अशुभ समयावधि मानी जाती है। इसीलिये सभी प्रकार के शुभ कार्यों को इस समयावधि के लिये स्थगित कर दिया जाता है। जब सूर्यदेव उत्तर दिशा में वापस आने लगते हैं, तब इन शुभः कार्यों का आयोजन किया जाता है । भीष्म पितामह ने अपनी देह त्यागने के लिये माघ शुक्ल अष्टमी को चुना, क्योंकि इस समय तक सूर्यदेव उत्तर दिशा अथवा उत्तरायण में वापस जाने लगे थे।

इस दिन लोग भीष्म पितामह के लिये एकोदिष्ट श्राद्ध करते हैं। इस श्राद्ध का सुझाव उन लोगों के लिये दिया गया है, जिनके पिता की मृत्यु हो गयी है। हालाँकि, कई लोग यह मानते हैं कि, भीष्म पितामह का श्राद्ध अनुष्ठान कोई भी व्यक्ति कर सकता है, चाहें उसके पिता जीवित हों अथवा मृत।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation