☰
Search
Mic
हि
Android Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

उदय लग्न पुष्कर नवांश के साथ नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिये

DeepakDeepak

उदय लग्न

बी.वी. रमनकृष्णमूर्तीसायन
 अभी का लग्न
Mesha Rashi
मेष
01:47 ए एम से 03:22 ए एम
00:16:09 Countdown Sandbox
नई दिल्ली, भारत
17
जून 2024
सोमवार

दिसम्बर 21, 2011, बुधवार

Day Sunलग्न राशि
लग्न समय
धनु
06:52 ए एम से 08:56 ए एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 08:21 ए एम
मकर
08:56 ए एम से 10:38 ए एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 09:46 ए एम
कुम्भ
10:38 ए एम से 12:06 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 11:49 ए एम
मीन
12:06 पी एम से 01:30 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 12:25 पी एम
मेष
01:30 पी एम से 03:06 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 02:35 पी एम
वृषभ
03:06 पी एम से 05:01 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 03:57 पी एम
मिथुन
05:01 पी एम से 07:16 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 06:48 पी एम
कर्क
07:16 पी एम से 09:36 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 07:48 पी एम
सिंह
09:36 पी एम से 11:53 पी एमपुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 11:12 पी एम
कन्या
11:53 पी एम से 02:10 ए एम, दिसम्बर 22पुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 12:57 ए एम, दिसम्बर 22
तुला
02:10 ए एम से 04:29 ए एम, दिसम्बर 22पुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 04:01 ए एम, दिसम्बर 22
वृश्चिक
04:29 ए एम से 06:48 ए एम, दिसम्बर 22पुष्कर नवांशपुष्कर नव. - 05:02 ए एम, दिसम्बर 22

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

पुष्कर नव.
- पुष्कर नवांश

उदय लग्न

वैदिक ज्योतिष शास्त्र में, लग्न को सबसे महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। लग्न को उदय लग्न भी कहा जाता है। पश्चिमी ज्योतिष शास्त्र में, लग्न को असेन्डन्ट कहा जाता है। लग्न से तात्पर्य उस राशि से होता है जो जातक के जन्म के समय पूर्वी क्षितिज पर उदित हो रही होती है। एक हिन्दु तिथि में अर्थात सूर्योदय से सूर्योदय तक के समय में सभी बारह राशियाँ एक निर्धारित चक्र में पूर्वी क्षितिज पर उदित होती हैं।

लग्न की अवधि अर्थात वह समय जिसमें कोई एक राशि क्षितिज पर अपना चक्र पूरा करती है। यह समयावधि किसी भी दो स्थान के लिये समान नहीं होती है। इसके अतिरिक्त, किसी भी एक स्थान के लिये सभी बारह लग्नों की अवधि भी समान नहीं होती है।

लग्न किसी भी व्यक्ति की कुण्डली में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कुण्डली के अतिरिक्त, हिन्दु धर्म में कोई भी मुहूर्त लग्न के आधार पर ही निर्धारित किया जाता है। विवाह मुहूर्त, गृह प्रवेश मुहूर्त आदि मांगलिक कार्यों के मुहूर्त निर्धारित करने के लिये लग्न शुद्धि अत्यन्त आवश्यक प्रक्रिया है। सभी मांगलिक कार्यों के मुहूर्त के लिये प्रबल लग्न का चयन किया जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation