☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock
Sharad Purnima

दैनिक पञ्चाङ्ग में अग्निवास

DeepakDeepak

अग्निवास

अग्निवास

सभी हवन जो किसी कामना के साथ किये जा रहें हो, वे तभी किये जाने चाहिये जब अग्नि का निवास केवल पृथ्वी पर ही हो।

हालाँकि, अन्य गतिविधियों के लिये जो नियमित है, अग्निवास को नहीं माना जाता है। उदहारण के तौर पर नवरात्रि में चण्डी यज्ञ, अग्निहोत्र द्वारा किया जाने वाला नित्य हवन, ग्रहण के दौरान हवन, अमावस्या पर, उपवास के दिन, संस्कार से सम्बन्धित कार्य जैसे मुण्डन, उपनयन समारोह, विवाह, यात्रा आदि के लिये अग्निवास को नहीं माना जाता है।

अग्निवास तिथि और सप्ताह के दिन के संयोजन पर निर्भर होता है। अग्नि तीन स्थानों में से किसी एक में निवास कर सकती है -

  1. पृथ्वी - सुख-सुविधा प्रदान करती है।
  2. आकाश - जीवन के लिये हानिकारक।
  3. पाताल - धन को नष्ट करती है।
Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation