☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2023 छत्रपति शिवाजी जयन्ती का दिन | शिवाजी की जन्म वर्षगाँठ

DeepakDeepak

2023 शिवाजी जयन्ती

एशबर्न, संयुक्त राज्य अमेरिका
शिवाजी जयन्ती
19वाँ
फरवरी 2023
Sunday / रविवार
छत्रपति शिवाजी महाराज
Chhatrapati Shivaji

शिवाजी जयन्ती

छत्रपति शिवाजी की 393वाँ जन्म वर्षगाँठ
छत्रपति शिवाजी भोंसले (1630-1680 C.E.)

छत्रपति शिवाजी जयन्ती 2023

शिवाजी भोसले (1630-1680 सीई) मराठा साम्राज्य के एक महान योद्धा व राजा थे, जिन्होंने मराठा साम्राज्य की स्थापना की थी। शिवाजी का जन्म 1630 में महाराष्ट्र के पुणे जिले के जुन्नर नगर के समीप हुआ था। इनके पिता का नाम शाहजी भोसले तथा माता का नाम जीजाबाई था। शिवाजी भोसले छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम से विख्यात हैं।

उनके जन्म की निश्चित तिथि को लेकर विद्वानों में दो मत हैं। विद्वानों क एक समूह के अनुसार छत्रपति शिवाजी का जन्म फरवरी 19, 1630 को हुआ था, जबकि दूसरे समूह के अनुसार उनका जन्म अप्रैल 6, 1627 को हुआ था।

महाराष्ट्र सरकार द्वारा फरवरी 19, 1630 की तिथि को शिवाजी जयन्ती के रूप में स्वीकार किया गया है। हालाँकि, बहुत कम लोगों को यह तथ्य ज्ञात है कि यह तिथि जूलियन कैलेण्डर पर आधारित है, न कि वर्तमान में वैश्विक स्तर पर उपयोग होने वाले ग्रेगोरियन कैलेण्डर पर। हम अपने अभिलेख संग्रह में से एक लेख को यहाँ प्रदर्शित करना चाहेंगे -

"मराठा शिरोमणि का जन्म वर्ष 1627 है अथवा 1630, यह भी एक प्रश्न है जो दीर्घकाल तक इतिहासकारों को भ्रमित करता रहा है। हालाँकि, ऐतिहासिक अभिलेखों की सहायता से 1630 को जन्म वर्ष के रूप में निर्धारित किया गया था, किन्तु इसके उपरान्त भी निश्चित जन्म तिथि का प्रश्न दीर्घकाल तक अनुत्तरित रहा।

इस विवाद पर एक अन्तिम विराम लगाने के लिये 1968 में महाराष्ट्र सरकार ने इतिहासकारों की एक समिति गठित की। एम. एन. दीक्षित इस समिति के प्रमुख थे तथा बाबासाहेब पुरन्दरे, दत्तो वामन पोतदार, जी.एच.खरे, बी.सी बेन्द्रे, नरहर रघुनाथ फाटक एवं कोल्हापुर के शिवाजी विश्वविद्यालय के प्रथम कुलाधिपति अप्पासाहेब पवार इसके सदस्य थे।

समिति के सभी सदस्य एक साथ इस निर्णय पर सहमत हुये कि हिन्दु पञ्चाङ्ग के अनुसार फाल्गुन वद्य तृतीया तथा अँग्रेजी कैलेण्डर के अनुसार फरवरी 19 को शिवाजी की जन्मतिथि माना जाये। महाराष्ट्र सरकार ने पिछले वर्ष यह घोषणा की थी कि, शिवाजी जयन्ती प्रति वर्ष फरवरी 19 को मनायी जायेगी तथा इस दिन राजकीय अवकाश रहेगा। हालाँकि, डेमोक्रेटिक फ्रंट सरकार ने फाल्गुन वद्य तृतीया को भी शिवाजी जयन्ती के रूप में स्वीकार कर, जन्मतिथि के सन्दर्भ में चले आ रहे भ्रम में योगदान दे दिया।

फाल्गुन वद्य तृतीया के समर्थन में शिवसेना द्वारा इस विषय पर बल देते हुये, श्री बाल ठाकरे ने कहा था कि, 1916 में, भारत इतिहास संशोधक मण्डल के वार्षिक सम्मेलन में श्री लोकमान्य तिलक ने उनके द्वारा प्रस्तुत एक पत्र में इस तिथि को शिवाजी की जन्मतिथि के रूप में प्रमाणित किया था। "

जब हमने ग्रेगोरियन कैलेण्डर पर तृतीया, फाल्गुन, कृष्ण पक्ष, विक्रम सम्वत 1686 की जाँच की तो परिणाम मार्च 1, 1630 निकला, जो जूलियन कैलेण्डर पर फरवरी 19, 1630 के समान है।

शिवाजी के जन्म की दूसरी प्रस्तावित तिथि अप्रैल 6, 1627 है, जो ग्रेगोरियन कैलेण्डर पर अप्रैल 16, 1627 के समान है। हिन्दु तिथि में परिवर्तित करने पर यह तिथि अन्य प्रस्तावित तिथि द्वितीया, वैशाख, शुक्ल पक्ष, विक्रम सम्वत 1684 के बहुत करीब है।

हालाँकि, हम पहली तिथि को स्वीकार करते हैं, जो प्रख्यात विद्वानों की समिति द्वारा प्रस्तावित की गयी थी। द्रिक पञ्चाङ्ग जूलियन कैलेण्डर की फरवरी 19, 1630 को हिन्दु चन्द्र कैलेण्डर (महाराष्ट्र में प्रचलित अमान्त चन्द्र कैलेण्डर) में परिवर्तित करता है, जिसके परिणामस्वरूप फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष तृतीया तिथि, शिवाजी जयन्ती के रूप में मनायी जाती है। यही हिन्दु तिथि प्रतिष्ठित विद्वानों की समिति द्वारा प्रस्तावित की गयी है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation