☰
Search
Mic
हि
Android Play StoreIOS App Store
Setting
Clock

2024 वैकुण्ठ चतुर्दशी दिन और समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिए

DeepakDeepak

2024 वैकुण्ठ चतुर्दशी

नई दिल्ली, भारत
वैकुण्ठ चतुर्दशी
14वाँ
नवम्बर 2024
Thursday / गुरूवार
भगवान विष्णु भगवान शिव को 1000 कमलपुष्प अर्पित करते हुए
Vaikuntha Chaturdashi

वैकुण्ठ चतुर्दशी मुहूर्त

वैकुण्ठ चतुर्दशी बृहस्पतिवार, नवम्बर 14, 2024 को
वैकुण्ठ चतुर्दशी निशिताकाल - 11:39 पी एम से 12:32 ए एम, नवम्बर 15
अवधि - 00 घण्टे 53 मिनट्स
देव दीपावली शुक्रवार, नवम्बर 15, 2024 को
चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ - नवम्बर 14, 2024 को 09:43 ए एम बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त - नवम्बर 15, 2024 को 06:19 ए एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2024 वैकुण्ठ चतुर्दशी

हिन्दु कैलेण्डर में वैकुण्ठ चतुर्दशी एक पावन दिन है, जो कार्तिक पूर्णिमा से एक दिन पूर्व मनाया जाता है। कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष चतुर्दशी को भगवान विष्णु के साथ-साथ भगवान शिव के भक्तों के लिये भी पवित्र दिन माना जाता है, क्योंकि इस दिन दोनों देवताओं की एक साथ पूजा-अर्चना की जाती है। अन्यथा, ऐसा बहुत कम होता है कि एक ही दिन भगवान शिव एवं भगवान विष्णु का संयुक्त रूप से पूजन किया जाये।

वाराणसी के अधिकांश मन्दिरों में वैकुण्ठ चतुर्दशी मनायी जाती है तथा यह देव दीवाली जैसे महत्वपूर्ण पर्व से एक दिन पूर्व आती है। वाराणसी के अतिरिक्त, ऋषिकेश, गया तथा महाराष्ट्र के अनेक नगरों भी वैकुण्ठ चतुर्दशी मनायी जाती है।

शिवपुराण के अनुसार, कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी के शुभ अवसर पर, भगवान श्री विष्णु भगवान शिव का पूजन करने हेतु वाराणसी गये थे। भगवान विष्णु ने एक सहस्र कमल पुष्पों द्वारा भगवान शिव का पूजन करने का सङ्कल्प ग्रहण किया था। भगवान शिव को कमल पुष्प अर्पित करते समय भगवान विष्णु को ज्ञात हुआ कि अन्तिम पुष्प वहाँ नहीं है। भगवान विष्णु के नेत्रों की तुलना कमल से की जाती है, अतः अपना पूजन-सङ्कल्प पूर्ण करने हेतु भगवान विष्णु ने अपना एक नेत्र निकाला एवं अन्तिम पुष्प के स्थान पर भगवान शिव को अर्पण कर दिया। भगवान विष्णु की यह भक्ति देखकर भगवान शिव अत्यधिक प्रसन्न हुये एवं उन्होंने भगवान विष्णु को उनका नेत्र तो वापस किया ही अपितु उन्हें सुदर्शन चक्र भी भेंट किया, जो भगवान विष्णु के सर्वाधिक शक्तिशाली एवं अलौकिक अस्त्रों में से एक माना जाता है।

वैकुण्ठ चतुर्दशी पर, भगवान विष्णु की पूजा निशीथकाल में की जाती है, जो हिन्दु दिन गणना के अनुसार मध्यरात्रि का समय है। इस दिव्य अवसर पर भक्तगण विष्णु सहस्रनाम, अतार्थ भगवान विष्णु के एक हजार नामों का पाठ करते हुये भगवान विष्णु को एक हजार कमल पुष्प अर्पित करते हैं।

हालाँकि वैकुण्ठ चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु एवं भगवान शिव दोनों की पूजा की जाती है, परन्तु भक्त दिन के दो भिन्न-भिन्न समय पर दोनों का पूजन करते हैं। भगवान विष्णु के भक्त निशीथकाल को वरीयता देते हैं जो हिन्दु मध्यरात्रि है, जबकि भगवान शिव के भक्त अरुणोदयकाल को मान्यता देते हैं जो प्रातःकाल का समय होता है। शिवभक्तों के लिये, वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर अरुणोदयकाल में स्नान करना अत्यन्त महत्वपूर्ण होता है। कार्तिक चतुर्दशी पर इस पवित्र स्नान को मणिकर्णिका स्नान के नाम से जाना जाता है।

यह एकमात्र अवसर होता है, जब भगवान विष्णु को वाराणसी के प्रमुख शिव मन्दिर, काशी विश्वनाथ मन्दिर के गर्भगृह में विशेष आदर के साथ विराजमान किया जाता है। मान्यता है कि, इस दिन विश्वनाथ मन्दिर वैकुण्ठ के समान पवित्र हो जाता है। दोनों देवताओं की इस प्रकार विधिपूर्वक पूजा-अर्चना की जाती है जैसे वे परस्पर एक-दूसरे की पूजा कर रहे हों। भगवान विष्णु शिव जी को तुलसीदल अर्पित करते हैं एवं भगवान शिव, विष्णु जी को बेलपत्र भेंट करते हैं।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation