☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
#घर_पर_रहें_सुरक्षित_रहें
चैत्र राम नवरात्रि📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak2020 आदि शङ्कराचार्य जयन्ती का दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
2020 आदि शङ्कराचार्य जयन्ती
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
शहर बदलेंclose
भारतनई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत
नई दिल्ली, भारत
शङ्कराचार्य जयन्ती
28वाँ
अप्रैल 2020
Tuesday / मंगलवार
आदि शङ्कराचार्य
Adiguru Shankaracharya
आदि शङ्कराचार्य जयन्ती समय

आदि शङ्कराचार्य जयन्ती समय

आदि शङ्कराचार्य की 1232वाँ जन्म वर्षगाँठ
शङ्कराचार्य जयन्ती मंगलवार, अप्रैल 28, 2020 को
पञ्चमी तिथि प्रारम्भ - अप्रैल 27, 2020 को 02:29 पी एम बजे
पञ्चमी तिथि समाप्त - अप्रैल 28, 2020 को 03:07 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

आदि गुरु शङ्कराचार्य जयन्ती 2020

Adi Shankaracharya Jayanti is observed as birth anniversary of Indian Guru and philosopher Adi Shankara. Adi Shankara was born in Kalady which is situated in Kerala during 788 C.E. and he was disappeared at young age of 32 in year 820 C.E.

Adi Shankaracharya Jayanti is observed on Panchami Tithi during Shukla Paksha of Vaishakha month and currently falls between April and May. Shankaracharya consolidated the doctrine of Advaita Vedanata (अद्वैत वेदान्त) and revived it at a time when Hindu culture was on decline.

Adi Shankara, along with Madhava and Ramanuja, was instrumental in the revival of Hinduism. These three teachers formed the doctrines that are followed by their respective sects even today. They have been the most important figures in the recent history of Hindu philosophy.

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation