☰
Search
Mic
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App Store
SettingTheme
आधुनिक थीम चुनें
Clock

कुण्डली मिलान | जन्मपत्रिका मिलान | अष्ट कूट पर आधारित कुण्डली मिलान

DeepakDeepak

कुण्डली मिलान

॥ ऑनलाइन कुण्डली मिलान ॥

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटिसमप्रभ।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

Horoscope Match - Kundali Milan

ऑनलाइन कुण्डली मिलान अष्टकूट पद्धति पर आधारित है। अष्टकूट कुण्डली मिलान में वर और कन्या के आठ विभिन्न व्यक्तित्व पहलुओं की तुलना की जाती है और मिलान अनुकूलता के आधार पर कुछ अंक निर्धारित किये जाते हैं। अन्तिम परिणाम सभी व्यक्तित्व पहलुओं के अंक-योग पर निर्भर करता है।

वर का विवरण
Compress
Boyनाम?

Dateजन्म दिनाँक?
Timeस्थानीय जन्म समय?

Locationजन्म स्थान?
जन्म का राज्य?
जन्म का देश?
उन्नत विकल्प / स्थान तय करें।Expand Icon

उन्नतांश?
अक्षांश?
रेखांश?

ओल्सन समय क्षेत्र डी.एस.टी. नियम के लिये?
समय क्षेत्र अन्तराल?

अयनांश?
कन्या का विवरण
Compress
Girlनाम?

Dateजन्म दिनाँक?
Timeस्थानीय जन्म समय?

Locationजन्म स्थान?
जन्म का राज्य?
जन्म का देश?
उन्नत विकल्प / स्थान तय करें।Expand Icon

उन्नतांश?
अक्षांश?
रेखांश?

ओल्सन समय क्षेत्र डी.एस.टी. नियम के लिये?
समय क्षेत्र अन्तराल?

अयनांश?
अष्ट कूट आधारित कुण्डली मिलान
कृपया उपरोक्त जानकारी प्रदान करें और जायें बटन पर क्लिक करें।
Horoscope Play Store App
होरोस्कोप मैच (कुण्डली मिलान) ऐप इंस्टॉल करें और दो भागीदारों के बीच सटीक संगतता की जाँच करें।

कुण्डली मिलान की अष्टकूट पद्धति में, गुणों की अधिकतम संख्या ३६ है। वर और कन्या के बीच गुण अगर ३१ से ३६ के मध्य में हो तो उनका मिलाप अति उत्तम होता है। गुण अगर २१ से ३० के मध्य में हो तो वर और कन्या का मिलाप बहुत अच्छा होता है। गुण अगर १७ से २० के मध्य में हो तो वर और कन्या का मिलाप साधारण होता है और गुण अगर ० से १६ के मध्य में हो तो इसे अशुभ माना जाता है।

कुण्डली मिलान के दौरान उपरोक्त विवरण तब ही मान्य है जब भकूट दोष नहीं होता है। अगर भकूट दोष होता है तब वर-कन्या का मिलाप कभी उत्तम नहीं होता है, २६ से २९ के मध्य में गुण बहुत अच्छे होते हैं, २१ से २५ के मध्य में गुण साधारण होते हैं और ० से २० के मध्य में गुण अशुभ होते हैं।

यह भी ध्यान में रखना चाहिये कि कुण्डली मिलान के दौरान नाड़ी कूट को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाती है। अगर नाड़ी कूट अनुकूल नहीं है तब २८ गुणों का मिलान भी अशुभ माना जाता है।

टिप्पणी - मङ्गल दोष को कुज दोष के नाम से भी जाना जाता है। मङ्गल दोष को अष्टकूट कुण्डली मिलान के दौरान सम्मिलित नहीं किया जाता है। वर और कन्या के कुण्डली मिलान में अगर किसी एक की ही कुण्डली में मङ्गल दोष उपस्थित है तो अष्ट कूट मिलान नहीं किया जाना चाहिये। दूसरे शब्दों में मंगलिक और अमंगलिक जोड़े के बीच अष्ट कूट द्वारा कुण्डली मिलान नहीं किया जाना चाहिये।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation