☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
कोविड-19 महामारी
Mesha Rashifal
मेष
Vrishabha Rashifal
वृषभ
Mithuna Rashifal
मिथुन
Karka Rashifal
कर्क
Simha Rashifal
सिंह
Kanya Rashifal
कन्या
Tula Rashifal
तुला
Vrishchika Rashifal
वृश्चिक
Dhanu Rashifal
धनु
Makara Rashifal
मकर
Kumbha Rashifal
कुम्भ
Meena Rashifal
मीन

Deepak1908 वामन जयन्ती का दिन नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, भारत के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
1908 वामन जयन्ती पूजा का समय
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
नई दिल्ली, भारत
वामन जयन्ती
7वाँ
सितम्बर 1908
Monday / सोमवार
भगवान वामन
Vamana Jayanti
वामन जयन्ती मूहूर्त

वामन जयन्ती मूहूर्त

वामन जयन्ती सोमवार, सितम्बर 7, 1908 को
द्वादशी तिथि प्रारम्भ - सितम्बर 07, 1908 को 08:09 ए एम बजे
द्वादशी तिथि समाप्त - सितम्बर 08, 1908 को 05:02 ए एम बजे
श्रवण नक्षत्र प्रारम्भ - सितम्बर 07, 1908 को 06:49 पी एम बजे
श्रवण नक्षत्र समाप्त - सितम्बर 08, 1908 को 04:16 पी एम बजे

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

1908 वामन जयन्ती

वामन जयन्ती भगवान विष्णु के वामन रूप में अवतरण दिवस के उपलक्ष्य में मनायी जाती है। वामन जयन्ती भाद्रपद शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को मनायी जाती है। भागवत पुराण के अनुसार, वामन भगवान विष्णु के दशावतार में से पाँचवे अवतार थे व त्रेता युग में पहले अवतार थे। भगवान विष्णु के पहले चार अवतार पशु रूप में थे जो की क्रमशः मत्स्य अवतार, कूर्म अवतार, वराह अवतार और नरसिंघ अवतार थे। इसके पश्चात् वामन मनुष्य रूप में पहले अवतार थे। वामन देव ने भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष द्वादशी को अभिजित मुहूर्त में जब श्रवण नक्षत्र प्रचलित था माता अदितिकश्यप ऋषि के पुत्र के रूप में जन्म लिया था।

वामन अवतार कथा

भगवान विष्णु ने स्वर्ग लोक पर इन्द्र देव के अधिकार को पुनःस्थापित करवाने के लिये वामन अवतार लिया था। भगवान विष्णु के परमभक्त व अत्यन्त बलशाली दैत्य राजा बलि ने इन्द्र देव को पराजित कर स्वर्ग पर अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया था। भगवान विष्णु के परम भक्त और दानवीर राजा होने के बावजूद, बलि एक क्रूर और अभिमानी राक्षस था। बलि अपनी शक्ति का दुरुपयोग कर देवताओं और ब्राह्मणों को डराया व धमकाया करता था। अत्यन्त पराक्रमी और अजेय बलि अपने बल से स्वर्ग लोक, भू लोक तथा पाताल लोक का स्वामी बन बैठा था।

स्वर्ग से अपना अधिकार छिन जाने पर इन्द्र देव अन्य देवताओं के साथ भगवान विष्णु के समक्ष पहुँचे और अपनी पीड़ा बताते हुये सहायता की विनती की। भगवान विष्णु ने इन्द्र देव को आश्वासन दिया कि वे तीनों लोकों को बलि के अत्याचारों से मुक्ति दिलवाने हेतु माता अदिति के गर्भ से वामन अवतार के रूप में जन्म लेंगे।

भगवान विष्णु इन्द्र से किये अपने वचन को पूरा करने के लिये वामन रूप धारण कर उस सभा में पहुँचे जहाँ राजा बलि अश्वमेध यज्ञ कर रहे थे। वामन देव ने भिक्षा के रूप में बलि से तीन पग धरती की याचना की। बलि जो की एक दानवीर राजा थे, सहर्ष रूप से वामन देव की इच्छा पूर्ति करने के लिये सहमत हो गये। तत्पश्चात, वामन देव ने अत्यन्त विशाल रूप धारण कर अपने पहले पग से ही समस्त भू लोक को नाप लिया। दूसरे पग से उन्होंने स्वर्ग लोक नाप लिया। अन्ततः, जब वामन देव अपना तीसरा पग उठाने को हुये तब राजा बलि को यह ज्ञात हुआ की यह भिक्षुक कोई साधारण ब्राह्मण नहीं अपितु स्वयं भगवान विष्णु हैं। अतः बलि ने तीसरे पग के लिये अपना शीर्ष वामन देव के समक्ष प्रस्तुत कर दिया। तब भगवान विष्णु ने बलि की उदारता का सम्मान करते हुये, उसका वध करने के बजाय उसे पाताल लोक में धकेल दिया। भगवान विष्णु ने साथ ही बलि को यह वरदान भी दिया कि वह वर्ष में एक बार अपनी प्रजा के समक्ष धरती पर उपस्थित हो सकता है। राजा बलि की धरती पर वार्षिक यात्रा को केरल में ओणम तथा अन्य भारतीय राज्यों में बलि-प्रतिपदा के रूप में मनाया जाता है।

वामन जयन्ती पूजा विधि

वामन जयन्ती के दिन भगवान विष्णु को उनके वामन रूप में पूजा जाता है। इस दिन, प्रातःकाल वामन देव की स्वर्ण या मिट्टी की प्रतिमा की पञ्चोपचार अथवा षोडशोपचार पूजा की जाती है। वामन जयन्ती के दिन व्रत भी रखा जाता है। सन्ध्याकाल की पूजा के पश्चात् वामन जयन्ती की व्रत कथा पढ़ी या सुनी जाती है। इसके पश्चात् प्रसाद ग्रहण कर व्रत तोड़ा जाता है। इस दिन चावल, दही और मिश्री का दान भी दिया जाता है। यदि वामन जयन्ती श्रवण नक्षत्र के दिन आती है तो इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है।

वामन जयन्ती को वामन द्वादशी भी कहा जाता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
द्रिक पञ्चाङ्ग और पण्डितजी लोगो drikpanchang.com के पञ्जीकृत ट्रेडमार्क हैं।
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation