☰
Search
हि
Sign InSign In साइन इनAndroid Play StoreIOS App StoreSetting
Clock
दीवाली पूजा कैलेण्डर📈📉 शेयर बाजार व्यापार विमर्श📈📉 वस्तु बाजार मासिक रुझान
Shradh

Deepak2019 गणेश मूर्ति विसर्जन दिन और समय नई दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, इण्डिया के लिएDeepak

लिगेसी डिजाईन में स्विच करें
2019 गणेश विसर्जन
📅वर्ष चुनेंhttps://www.drikpanchang.com/placeholderClose
नई दिल्ली, इण्डिया
गणेश विसर्जन
12वाँ
सितम्बर 2019
Thursday / गुरूवार
अनन्त चतुर्दशी के दिन गणेश विसर्जन
Ganesh Visarajan
अनन्त चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन

अनन्त चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन

अनन्त चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन बृहस्पतिवार, सितम्बर 12, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (शुभ) - 06:04 ए एम से 07:37 ए एम
प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 10:44 ए एम से 03:24 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (शुभ) - 04:57 पी एम से 06:30 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (अमृत, चर) - 06:30 पी एम से 09:24 पी एम
रात्रि मुहूर्त (लाभ) - 12:18 ए एम से 01:44 ए एम, सितम्बर 13
चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ - सितम्बर 12, 2019 को 05:06 ए एम बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त - सितम्बर 13, 2019 को 07:35 ए एम बजे
गणेश चतुर्थी पर गणेश विसर्जन

गणेश चतुर्थी पर गणेश विसर्जन

गणेश चतुर्थी पर गणेश विसर्जन सोमवार, सितम्बर 2, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
अपराह्न मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 01:56 पी एम से 06:42 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (चर) - 06:42 पी एम से 08:07 पी एम
रात्रि मुहूर्त (लाभ) - 10:56 पी एम से 12:21 ए एम, सितम्बर 03
उषाकाल मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 01:46 ए एम से 06:00 ए एम, सितम्बर 03
एक और आधा दिन (डेढ़ दिन) के बाद गणेश विसर्जन

एक और आधा दिन (डेढ़ दिन) के बाद गणेश विसर्जन

एक और आधा दिन (डेढ़ दिन) के बाद गणेश विसर्जन मंगलवार, सितम्बर 3, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 12:20 पी एम से 01:55 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (शुभ) - 03:31 पी एम से 05:06 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (लाभ) - 08:06 पी एम से 09:31 पी एम
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 10:56 पी एम से 03:10 ए एम, सितम्बर 04
तीसरे दिन गणेश विसर्जन

तीसरे दिन गणेश विसर्जन

तीसरे दिन गणेश विसर्जन बुधवार, सितम्बर 4, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (शुभ) - 10:45 ए एम से 12:20 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (चर, लाभ) - 03:30 पी एम से 06:40 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 08:05 पी एम से 12:20 ए एम, सितम्बर 05
उषाकाल मुहूर्त (लाभ) - 03:11 ए एम से 04:36 ए एम, सितम्बर 05
प्रातः मुहूर्त (लाभ, अमृत) - 06:00 ए एम से 09:10 ए एम
पांचवें दिन गणेश विसर्जन

पांचवें दिन गणेश विसर्जन

पांचवें दिन गणेश विसर्जन शुक्रवार, सितम्बर 6, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 06:01 ए एम से 10:45 ए एम
अपराह्न मुहूर्त (चर) - 05:03 पी एम से 06:37 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (शुभ) - 12:19 पी एम से 01:54 पी एम
रात्रि मुहूर्त (लाभ) - 09:29 पी एम से 10:54 पी एम
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 12:20 ए एम से 04:36 ए एम, सितम्बर 07
सातवें दिन गणेश विसर्जन

सातवें दिन गणेश विसर्जन

सातवें दिन गणेश विसर्जन रविवार, सितम्बर 8, 2019 को
गणेश विसर्जन के लिए शुभ चौघड़िया मुहूर्त
प्रातः मुहूर्त (चर, लाभ, अमृत) - 07:36 ए एम से 12:19 पी एम
अपराह्न मुहूर्त (शुभ) - 01:53 पी एम से 03:27 पी एम
सायाह्न मुहूर्त (शुभ, अमृत, चर) - 06:35 पी एम से 10:53 पी एम
रात्रि मुहूर्त (लाभ) - 01:45 ए एम से 03:11 ए एम, सितम्बर 09
उषाकाल मुहूर्त (शुभ) - 04:37 ए एम से 06:03 ए एम, सितम्बर 09

टिप्पणी: सभी समय १२-घण्टा प्रारूप में नई दिल्ली, इण्डिया के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
आधी रात के बाद के समय जो आगामि दिन के समय को दर्शाते हैं, आगामि दिन से प्रत्यय कर दर्शाये गए हैं। पञ्चाङ्ग में दिन सूर्योदय से शुरू होता है और पूर्व दिन सूर्योदय के साथ ही समाप्त हो जाता है।

2019 गणेश विसर्जन

गणेश चतुर्थी के दिन गणेश विसर्जन

गणेश विसर्जन चतुर्थी तिथि के दिन ही पूजा करने के बाद भी किया जा सकता है। परंपरागत तौर पर, हिन्दु धर्म में देवी-देवताओं की पूजा विधि का समापन विसर्जन या उत्थापना के साथ ही होता है। हालाँकि, चतुर्थी तिथि के दिन ही गणेश विसर्जन कम लोकप्रिय व प्रचलित है।

डेढ़ दिन (एक और आधा दिन) बाद गणेश विसर्जन

गणेश विसर्जन चतुर्थी तिथि के अगले दिन (डेढ़ दिन बाद) ही किया जा सकता है। गणेश विसर्जन के लिए प्रचलित दिनों में से यह भी एक दिन है।

जो भक्त अगले दिन गणेश विसर्जन करते हैं, वे गणेश पूजा करने के बाद प्रतिमा को मध्याह्न के अगले पहर विसर्जित करते हैं। चूँकि, गणेश स्थापना चतुर्थी तिथि के दिन मध्याह्न में होती है, और विसर्जन, मध्याह्न के बाद, इसलिए इसे डेढ़ दिन में गणेश विसर्जन कहा जाता है।

तीसरे दिन, पांचवे दिन एवं सातवें दिन विसर्जन

हालाँकि, गणेश विसर्जन के लिए अनन्त चतुर्दशी का दिन ही सर्वाधिक लोकप्रिय व प्रचलित है। फिर भी तीसरे दिन, पांचवे दिन व सातवें दिन में भी गणेश विसर्जन किया जा सकता है। यहाँ विचारणीय है की, विसर्जन के लिए उपयुक्त उपरोक्त सभी दिन विषम संख्या में दर्शाए गए हैं। विसर्जन का सबसे प्रचलित दिन, यानि अनन्त चतुर्दशी का दिन भी चतुर्थी तिथि के बाद ग्यारहवाँ दिन होता है।

अनन्त चतुर्दशी के दिन विसर्जन

गणेश विसर्जन के लिए अनन्त चतुर्दशी तिथि सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है। चतुर्दशी तिथि के दिन ही भगवान विष्णु का उनके अनन्त रूप में पूजन किया जाता जो चतुर्थी तिथि को और भी अधिक महत्वपूर्ण बनाती है। भगवान विष्णु के भक्त इस दिन उपवास रखते हैं। भगवान् की पूजा के समय हाथ में धागा बांधते हैं। ऐसी मान्यता है, की यह धागा भक्तों की हर संकट में रक्षा करता है।

गणेशोत्सव या गणेश उत्सव का प्रारम्भ चतुर्थी तिथि से होता है एवं इसका समापन चतुर्दशी तिथि के दिन होता है। अतः गणेशोत्सव भाद्रपद माह में दस दिनों तक मनाया जाता है। उत्सव का अंतिम दिन गणेश विसर्जन के नाम से प्रचलित है। तेलुगु भाषी प्रांतों में गणेश विसर्जन 'विनायक निमंजनम' नाम से अधिक प्रचलित है।

गणेशोत्सव के ग्यारहवें दिन, भगवान गणेश की प्रतिमा को नदी, तालाब या समुद्र में विसर्जित कर दिया जाता है। विसर्जन के पहले, गणेश भगवान की पूजा व आरती की जाती है, फूल चढ़ाये जाते हैं और प्रसाद, नारियल का भोग लगाया जाता है। इसके बाद, पारम्परिक तौर पर ढोल-नगाड़ों के साथ धूमधाम से चल-समारोह के साथ गणेश प्रतिमा को नदी या तालाब तक लाया जाता है। हज़ारों की संख्या में भक्त गणेश भगवान के नाम के जयकारों के साथ, "गणपति बप्पा मोरया" व "गणेश महाराज की जय" के नारे लगाते हुए चल-समारोह में उत्साहपूर्वक भाग लेते हैं।

मुंबई में गणेश विसर्जन के समारोह को गणपति मंडल संचालित करते हैं। यहाँ पर भी चल-समारोह निकला जाता है, जिसमें महाराष्ट्र के पारम्परिक ढोल-ताशे व अन्य वाद्ययंत्र समारोह को भव्यता प्रदान करते हैं। आमतौर पर गणेश विसर्जन का उत्सव रातभर एवं अगले दिन सुबह तक चलता है।

कुछ परिवारों में अनन्त चतुर्दशी को गणेश विसर्जन न करके कुछ दिन पूर्व तीसरे, पांचवे या सातवें दिन ही गणेश विसर्जन किया जाता है। गणेश प्रतिमा को घर में ही बालटी या टब में भी विसर्जित किया जा सकता है।

Kalash
कॉपीराइट नोटिस
PanditJi Logo
सभी छवियाँ और डेटा - कॉपीराइट
Ⓒ www.drikpanchang.com
प्राइवेसी पॉलिसी
Android Play StoreIOS App Store
Drikpanchang Donation