deepak

Barsane Ki Holi - Phag Khelan Barsane Aaye Hain, Hindi Lyrics and Video Song

deepak
Useful Tips on
Panchang
Title
Barsane Ki Holi
Phag Khelan Barsane Aaye Hain is one of the popular Holi songs in Braj which is played during Holi events. These are the Hindi lyrics of the famous Holi Rasia of Braj.
बरसाने की होली
फाग खेलन बरसाने आए हैं, नटवर नन्दकिशोर।

घेर लईं सब गली रंगीली, छाय रही छबि छटा रंगीली।
जिन ढप-ढोल मृदंग बजाए हैं, बंशी की घनघोर॥
फाग खेलन बरसाने…।

जुर-मिलि कैं सब सखियाँ आईं, उमड़ि घटा अम्बर में छाई।
जिन अबीर-गुलाल उड़ाए हैं, मारत भरि-भरि झोर॥
फाग खेलन बरसाने…।

लै रहे चोट ग्वाल ढालन पै, केसर-कीच मलें गालन पै।
जिन हरियल बाँस मँगाए हैं, चलन लगे चहुँ ओर॥
फाग खेलन बरसाने…।

भई अबीर घोर अँधियारी, दीखत नाहिं नर अरु नारी।
जिन राधे सैन चलाए हैं, पकरे माखन चोर॥
फाग खेलन बरसाने…।

जो लाला घर जानौ चाहौ, तो होरी कौ फगुआ लाऔ।
जिन श्याम ने सखा बुलाए हैं, बाँटत भरि-भरि झोर॥
फाग खेलन बरसाने…।

राधे जू के हा-हा खाऔ, सब सखियन के घर पहुँचाऔ।
जिन 'घासीराम' कथा गाए हैं, भयौ कविता कौ छोर॥
फाग खेलन बरसाने…।

10.160.15.200
facebook button